Shayri.com

Shayri.com (http://www.shayri.com/forums/index.php)
-   Ghazal Section (http://www.shayri.com/forums/forumdisplay.php?f=14)
-   -   ये जो आँखों में हल्की चुभन सी है इसको तो ख़लि& (http://www.shayri.com/forums/showthread.php?t=80453)

Baghbaan 4th August 2019 11:10 AM

ये जो आँखों में हल्की चुभन सी है इसको तो ख़लि&
 
ये जो आँखों में हल्की चुभन सी है इसको तो ख़लिश का नाम न दो
तूफां में मिट्टी आयी है इसको गिरने दो तुम थाम न लो l

खुदगर्ज ज़माने में अक्सर लोगों की फितरत ऐसी है
अफ़सोस जुबां पे होता है और आँखों में कोई भी अश्क न हो l

चिंगारी ख़लिश की छोटी ही हो यश उसमें तपिश ही होती है
इसमें जल जाते हैं रिश्ते भी तुम इसको ज़रा सी भी शह तो न दो l


(जसपाल)
Baghbaan

zarraa 30th January 2021 07:05 PM

Waah khoob


All times are GMT +5.5. The time now is 10:01 PM.

Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2021, Jelsoft Enterprises Ltd.