Shayri.com

Shayri.com (http://www.shayri.com/forums/index.php)
-   Ghazal Section (http://www.shayri.com/forums/forumdisplay.php?f=14)
-   -   vaade na yaad keejie yaadeiN bhulaaie (http://www.shayri.com/forums/showthread.php?t=80664)

zarraa 1st May 2022 11:58 PM

vaade na yaad keejie yaadeiN bhulaaie
 
वादे न याद कीजिए यादें भुलाइए
टूटे खिलौने हैं ये नए ले के आइए

बेज़ार यूं रहेंगे ज़माने से कब तलक
बनते नहीं हैं दोस्त तो दुश्मन बनाइए

कानों में तो सभी के इयरफ़ोन है लगा
बेहतर है मुँह पे आप भी ताला लगाइए

तन्हाई से भी ख़ूब शनासाई है मगर
जी चाहता है घर में किसी को बुलाइए

इक बात पूछनी है इक अरसे से आप से
ख़ैर आज छोड़िए वो कभी फिर बताइए

कुछ आपने कहा था तो मैंने भी कह दिया
ये कब कहा कि बात मेरी मान जाइए

तर्क-ए-वफ़ा का हमको भी शिकवा न कुछ रहे
और इम्तिहान लीजिए और आज़माइए

फूलों के हक़ की बाद-ए-सबा छीन लें न आप
जाएँ तो साँस रोक के गुलशन में जाइए

“ज़र्रा” को आपने ही बनाया है आफ़ताब
किसने कहा था तीरगी इतनी बढ़ाइए

- ज़र्रा

vaade na yaad keejie yaadeiN bhulaaie
TooTe khilaune haiN ye nae le ke aaie

bezaar yooN raheNge zamaane se kab talak
bante naheeN haiN dost to dushman banaaie

kaanoN meN to sabhi ke earphone hai laga
behtar hai muNh pe aap bhi taala lagaaie

tanhaai se bhi KHoob shanaasaai hai magar
ji chaahta hai ghar meN kisi ko bulaaie

ik baat poochhni hai ik arse se aap se
KHair aaj chhoDie vo kabhi phir bataaiye

kuchh aapne kaha tha to maiNne bhi keh diya
ye kab kaha ki baat meri maan jaaie

tark-e-vafa ka humko bhi shikva na kuchh rahe
aur imtihaan leejie aur aazmaaie

phooloN ke haq ki baad-e-saba chheen leN na aap
jaaeN to saaNs rok ke gulshan meN jaaie

“zarraa” ko aapne hi banaaya hai aaftaab
kisne kaha tha teergi itni baDHaaie

- zarraa


All times are GMT +5.5. The time now is 05:27 PM.

Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2022, Jelsoft Enterprises Ltd.