Shayri.com

Shayri.com (http://www.shayri.com/forums/index.php)
-   Anjuman-e-Shayri (http://www.shayri.com/forums/forumdisplay.php?f=27)
-   -   नज़्म … हिंदी दिवस के बाद भी (http://www.shayri.com/forums/showthread.php?t=80636)

zarraa 19th September 2021 11:50 AM

नज़्म … हिंदी दिवस के बाद भी
 
नज़्म … हिंदी दिवस के बाद भी

प्यार करते हैं मान रखते हैं
बडे़ छोटे का ध्यान रखते हैं
सर झुका कर ज़मीं के चरणों पर
आँख में आसमान रखते हैं
लोच रखते बला का लहजे में
और शब्दों में ज्ञान रखते हैं
नाज़ भी जिसमें है अदब भी है
मुँह में ऐसी ज़बान रखते हैं
फ़िक्र की सरहदें नहीं होतीं
उसमें सारा जहान रखते हैं
क़द हिमाला सा हो दराज़ मगर
एक पंछी में जान रखते हैं
उम्र भर जुस्तजू किया करते
मौत में इत्मीनान रखते हैं
आदि जिसका न अंत है कोई
जारी वो दास्तान रखते हैं
लब पे हिंदी सजा के हम “ज़र्रा”
दिल में हिंदोस्तान रखते हैं

- सुश्रुत पंत ‘ज़र्रा’


nazm … hindi divas ke baad bhi

pyaar karte haiN maan rakhte haiN
baDe chhote ka dhyaan rakhte haiN
sar jhuka kar zameeN ke charadnoN par
aaNkh meN aasmaan rakhte haiN
loch rakhte bala ka lahje meN
aur shabdoN meN gyaan rakhte haiN
naaz bhi jismeN hai adab bhi hai
muNh meN aisi zabaan rakhte haiN
fikr ki sarhadeN naheeN hoteeN
usmeN saara jahaan rakhte haiN
qad himaala sa ho daraaz magar
ek panchhi meN jaan rakhte haiN
umr bhar justaju kiya karte
maut meN itmeenaan rakhte haiN
aadi jiska na ant hai koi
jaari vo daastaan rakhte haiN
lab pe hindi saja ke hum “zarraa”
dil meN hindostaan rakhte haiN

- zarraa


All times are GMT +5.5. The time now is 02:17 AM.

Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2022, Jelsoft Enterprises Ltd.