Shayri.com

Shayri.com (http://www.shayri.com/forums/index.php)
-   Shayri-e-Dard (http://www.shayri.com/forums/forumdisplay.php?f=4)
-   -   Ek Gazal (http://www.shayri.com/forums/showthread.php?t=80394)

rajveeer 1st February 2019 11:34 AM

Ek Gazal
 
मेरी तस्वीर बनाने की जो धुन है तुमको,
क्या उदासी के खदो खाल बना पाओगे?

जो मुक़्क़दर ने मेरी सिमत उछाला था कभी,
मेरे माथे पे वही जाल बना पाओगे?

सर की दल दल में धंसी आँख बना सकते हो,
आँख में फैलते पाताल बना पाओगे?

ज़िन्दगी ने जो मेरा हाल बना छोड़ा है,
मेरी तस्वीर का वो हाल बना पाओगे ?

sunita thakur 20th April 2019 11:09 AM

Quote:

Originally Posted by rajveeer (Post 496785)
मेरी तस्वीर बनाने की जो धुन है तुमको,
क्या उदासी के खदो खाल बना पाओगे?

जो मुक़्क़दर ने मेरी सिमत उछाला था कभी,
मेरे माथे पे वही जाल बना पाओगे?

सर की दल दल में धंसी आँख बना सकते हो,
आँख में फैलते पाताल बना पाओगे?

ज़िन्दगी ने जो मेरा हाल बना छोड़ा है,
मेरी तस्वीर का वो हाल बना पाओगे ?

wahhhh kya khoob sawaal kiye hai...enka jawaab mila ki nahi abhi tak :) Rajveer, aap bahut khoob likhte haiN.

:)

bhushan 1st August 2019 08:29 PM

Quote:

Originally Posted by rajveeer (Post 496785)
मेरी तस्वीर बनाने की जो धुन है तुमको,
क्या उदासी के खदो खाल बना पाओगे?

जो मुक़्क़दर ने मेरी सिमत उछाला था कभी,
मेरे माथे पे वही जाल बना पाओगे?

सर की दल दल में धंसी आँख बना सकते हो,
आँख में फैलते पाताल बना पाओगे?

ज़िन्दगी ने जो मेरा हाल बना छोड़ा है,
मेरी तस्वीर का वो हाल बना पाओगे ?


waaaaaaah, behad umdah, tarkh
kya kahne, lajawab khayal hai

meri taraf se dheero daaaad

aapka apna
bhushan

Mohammad Kashif 18th December 2019 01:07 AM

Quote:

Originally Posted by rajveeer (Post 496785)
मेरी तस्वीर बनाने की जो धुन है तुमको,
क्या उदासी के खदो खाल बना पाओगे?

जो मुक़्क़दर ने मेरी सिमत उछाला था कभी,
मेरे माथे पे वही जाल बना पाओगे?

सर की दल दल में धंसी आँख बना सकते हो,
आँख में फैलते पाताल बना पाओगे?

ज़िन्दगी ने जो मेरा हाल बना छोड़ा है,
मेरी तस्वीर का वो हाल बना पाओगे ?

Rajveer ji Bahut Behtreen Gazal Hai, Dil ko chu liya. Likhte rahiye.
Aapka Dost

Dhaval 12th January 2020 06:13 PM

Big B

Pranaam

Kaise hain aap?

Hamesha ki Tarah gehri soch aur ehsaason se bhari hui aapki ye koshish Dil Mein ghar Kar gai

Bahot khoob

Apna khayal rakhen.. Khush rahen

Duaaon ke saath ijaazat

Aapka
ChhoTu

Taish 15th March 2020 08:43 AM

Ahcha likha hai bade bhai..... kayi puraani yaaden taza ho gayi aapko dekh kar, ummeed hai aap ahche se honge aur jald milne ka mauka bhi mile... bas yunhi bazm ki raunak badhaate rahiye...


All times are GMT +5.5. The time now is 01:45 PM.

Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2020, Jelsoft Enterprises Ltd.