Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Search Forums

Showing results 1 to 34 of 34
Search took 0.02 seconds.
Search: Posts Made By: MANOJTANHA
Forum: Anjuman-e-Shayri 13th August 2019, 01:23 AM
Replies: 0
Views: 2,225
Posted By MANOJTANHA
मैं कौन हूं

मैं कौन हूँ , कौन हूँ मैं,
अकसर पूँछा करता हूँ मैं ये सवाल ख़ुद से
हर बार मिलता है पर एक अलग जवाब
फिर कौन हूँ मैं कौन

कभी बेटा तो कभी पति
कभी बाप तो कभी भाई
नहीं कुछ और भी हूँ मैं
पर क्या...
Forum: Shayri-e-Ishq 14th June 2019, 03:24 PM
Replies: 1
Views: 1,422
Posted By MANOJTANHA
यादों को मैं तेरी भुला पाता कैसे

यादों को मैं तेरी भुला पाता कैसे
तस्वीर मैं वो आँखों से मिटा पाता कैसे| यादों को मैं तेरी

तेरी साँसों की ख़ुशबुओं में डूबे वो हँसी पल
अपनी साँसों से मैं अलग कर पाता कैसे| यादों को मैं...
Forum: Shayri-e-Dard 14th June 2019, 03:12 PM
Replies: 0
Views: 3,037
Posted By MANOJTANHA
बेरुख़ी

इतनी दुआएँ भी ना दे
दुआ देने वाले
कि ये सदाऐं
एक श्राप बन जाये
दे सके तो कुछ
बददुआएें ज़रूर दे दे
शायद उसकी बेरुख़ी का
मलाल कुछ कम हो जाये
Forum: Aapki Shayri 14th June 2019, 03:02 PM
Replies: 8
Views: 22,278
Posted By MANOJTANHA
YE ZINDAGI KUCH AISI HEE CHALTI HAI. kABHI DHUP...

YE ZINDAGI KUCH AISI HEE CHALTI HAI. kABHI DHUP TO KABHI CHAON.

BAHUT KHUB RUCHIKA JEE
Forum: Aapki Shayri 14th June 2019, 02:59 PM
Replies: 0
Views: 588
Posted By MANOJTANHA
मैं कौन हूँ , कौन हूँ मैं

मैं कौन हूँ , कौन हूँ मैं,
अकसर पूँछा करता हूँ मैं ये सवाल ख़ुद से
हर बार मिलता है पर एक अलग जवाब
फिर कौन हूँ मैं कौन

कभी बेटा तो कभी पति
कभी बाप तो कभी भाई
नहीं कुछ और भी हूँ मैं
पर क्या ...
Forum: Aapki Shayri 19th July 2018, 01:25 PM
Replies: 2
Views: 1,488
Posted By MANOJTANHA
तू खफा, मैं बेवफा, दोनो की अदा ही निराली है।

तू खफा, मैं बेवफा,
दोनो की अदा ही निराली है।
Forum: Shayri-e-Ishq 23rd June 2018, 02:19 PM
Replies: 1,348
Views: 107,873
Posted By MANOJTANHA
बिछड़ने का दर्द क्या होता है ये हमसे पूछो बिछड़...

बिछड़ने का दर्द क्या होता है ये हमसे पूछो
बिछड़ कर मिलने वाले क्या जाने इस दर्द का एहसास
Forum: Shayri-e-Ishq 23rd June 2018, 02:16 PM
Replies: 1,348
Views: 107,873
Posted By MANOJTANHA
तू खफा, मैं बेवफा, दोनो की अदा ही निराली है। ...

तू खफा, मैं बेवफा,
दोनो की अदा ही निराली है।

मनोज तन्हा
Forum: Aapki Shayri 19th June 2018, 05:16 PM
Replies: 2
Views: 1,488
Posted By MANOJTANHA
इस नज़्म की एक लाइन भुल गया था अब पुरी नज़्म फिर से...

इस नज़्म की एक लाइन भुल गया था अब पुरी नज़्म फिर से लिख रहा हुं


तन्हा जिया करते हैं हम अपनी जिंदगी
उदासियों के साये में, किसी को बता न देना,
कि कहीं ये अँधेरे ना हमसे छिन जाये,
वजह ये नहीं...
Forum: Shayri-e-Dard 19th June 2018, 05:00 PM
Replies: 5
Views: 1,289
Posted By MANOJTANHA
बहुतबहुत शुक्रिया शाद जी | मेरी खुश्नसीबी जो आपको...

बहुतबहुत शुक्रिया शाद जी | मेरी खुश्नसीबी जो आपको मेरे एह्सास पसंद आये |
Forum: Shayri-e-Dard 8th May 2018, 04:33 PM
Replies: 2,440
Views: 162,891
Posted By MANOJTANHA
मलाल जीने का दिल में मेरे कभी ना आया होता, गर...

मलाल जीने का दिल में मेरे कभी ना आया होता,
गर दिल में उसके, एक छोटा सा कोना मिल गया होता|

मनोज तन्हा
Forum: Shayri-e-Dard 8th May 2018, 04:22 PM
Replies: 2,440
Views: 162,891
Posted By MANOJTANHA
तन्हायी, तन्हायी का ये आलम, तन्हायी ही का तो...

तन्हायी, तन्हायी का ये आलम, तन्हायी ही का तो सहारा है,
इस तन्हायी को तो मत छीन ए खुद्गर्ज ज़माने |


मनोज तन्हा
Forum: Shayri-e-Dard 21st April 2018, 12:07 AM
Replies: 38
Views: 3,771
Posted By MANOJTANHA
kisne kaha thaa ki wafa tum karo, itne nasamajh...

kisne kaha thaa ki wafa tum karo,
itne nasamajh to tum kabhi naa the.

bahut khub dhaval jee.

ye wafa aur bewafai kaa aalam hee kuch aur hai
maine khud wafa karke aur bewafa hoke dekha hai.
Forum: Aapki Shayri 20th April 2018, 11:55 PM
Replies: 2
Views: 1,487
Posted By MANOJTANHA
aap kehte hain ki du udaan main apne khyalon ko, ...

aap kehte hain ki du udaan main apne khyalon ko,

hota hai ye, ki ye khyaal hi mujhe uda le jaate hain
Forum: Aapki Shayri 15th April 2018, 12:23 PM
Replies: 3
Views: 1,458
Posted By MANOJTANHA
Thumbs up wah ruchika jee khu likha hai aapne

wah ruchika jee khu likha hai aapne
Forum: Shayri-e-Dard 9th April 2018, 10:42 PM
Replies: 9
Views: 1,774
Posted By MANOJTANHA
bahut khub chaand bhai. bilkul yatharth ko ghazal...

bahut khub chaand bhai. bilkul yatharth ko ghazal mai piroyaa hai. acha laga.

aur silent tears aapke kya kehne "ग़म के पीछे मारे मारे फिरना क्या
ये दौलत तो घर बैठे आ जाती है"| sahab yai daulat...
Forum: Shayri-e-Dard 9th April 2018, 10:33 PM
Replies: 4
Views: 846
Posted By MANOJTANHA
shukriyaa dhaval jee. in duaaon kee hee badaulat...

shukriyaa dhaval jee. in duaaon kee hee badaulat aage badhne ka hauslaa aata hai
Forum: Shayri-e-Dard 9th April 2018, 10:31 PM
Replies: 4
Views: 846
Posted By MANOJTANHA
sukriaa madhu ji. bus aise hi hauslaa badhate...

sukriaa madhu ji. bus aise hi hauslaa badhate rahein. aur haan aap agar kahin koi kamee mehsus karein o use jarur batayein.
Forum: Shayri-e-Dard 3rd April 2018, 04:55 PM
Replies: 5
Views: 1,289
Posted By MANOJTANHA
Many Thanks Dhaval jee. aapke shabdon ne...

Many Thanks Dhaval jee.

aapke shabdon ne bahut hauslaa diyaa hai|

mai to bas kabhi kabhak kuch sher ityadi lkh liya karta hun.

manoj tanha
Forum: Shayri-e-Dard 3rd April 2018, 12:10 PM
Replies: 5
Views: 1,289
Posted By MANOJTANHA
कैसे कहें कि तुम दिल के करीब हो

कैसे कहें कि तुम दिल के करीब हो,
कैसे कहे कि तुम हमारे अज़ीज़ हो,
झूठे हैं क्या दिल को आईना कहने वाले,
दिले तस्वीर नजर आती नहीं तुम्हे।

याद कहाँ होंगी तुमको वो मुलाकातें
फुरकत में डूबी हसरत भरी...
Forum: Shayri-e-Dard 3rd April 2018, 11:27 AM
Replies: 2,440
Views: 162,891
Posted By MANOJTANHA
दिल तड़पा, तड़प कर सब्र कर गया मगर मुझको मुझसे...

दिल तड़पा, तड़प कर सब्र कर गया
मगर मुझको मुझसे बेदखल कर गया
बहुत तड़पा तड़प कर कुछ कहने के लिए
हर हर्फ़ जुबान पर आते आते रह गया

मनोज तन्हा
Forum: Shayri-e-Dard 3rd April 2018, 11:24 AM
Replies: 2,440
Views: 162,891
Posted By MANOJTANHA
shukriyaa qasid bhai, bas kabhi kuch khyalaat...

shukriyaa qasid bhai, bas kabhi kuch khyalaat aate hain to likh dete hain.
Forum: Shayri-e-Dard 3rd April 2018, 11:20 AM
Replies: 27
Views: 3,373
Posted By MANOJTANHA
bahut khub likhaa hai madhu ji.

bahut khub likhaa hai madhu ji.
Forum: Shayri-e-Dard 13th March 2018, 10:47 PM
Replies: 8
Views: 1,385
Posted By MANOJTANHA
बहुत खुब लिखा है शाद जी। कुछ पुराने ज़ख्म हरे कर...

बहुत खुब लिखा है शाद जी। कुछ पुराने ज़ख्म हरे कर दिये
दर्द छलक्ता है हर शब्द में , और याद दिलाता है कुच खोये हुये लम्हों की
Forum: Shayri-e-Dard 13th March 2018, 10:37 PM
Replies: 26
Views: 2,449
Posted By MANOJTANHA
कविता तेरी

ना ही निश्ब्द ना ही स्त्ब्ध और ना ही पागल है कविता तेरी
एक तन्हा दिल की उदास तन्हायी है कविता तेरी
यह शुन्य है हज़ारों लाखों से ज़्यादा कीमती
और बाकी सभी कवितायों से बेशकीमती है कविता तेरी ।
Forum: Shayri-e-Dard 13th March 2018, 10:18 PM
Replies: 4
Views: 846
Posted By MANOJTANHA
प्यार क्या है

प्यार क्या है ये किस को समझ आया है
हमें तो बस एक दर्द का ही एहसास हो पाया है
अगर इस दर्द को ही प्यार कहते हैं
तो फिर हमने ये ता उम्र पाया है।
Forum: Aapki Shayri 11th March 2018, 09:16 PM
Replies: 8
Views: 2,766
Posted By MANOJTANHA
bahut khub dost. bahut khushnaseeb hai wo jiske...

bahut khub dost. bahut khushnaseeb hai wo jiske liye itne sundar shabdon mai aapne haale dil likhaa hai|
Forum: Aapki Shayri 11th March 2018, 09:13 PM
Replies: 2
Views: 1,890
Posted By MANOJTANHA
jindagee kaa kadwa sacjh hai ye ruchika jee....

jindagee kaa kadwa sacjh hai ye ruchika jee. bahut khub.
Forum: Aapki Shayri 11th March 2018, 09:01 PM
Replies: 2
Views: 1,487
Posted By MANOJTANHA
जिंद्गी की ख्वाहिश

जिंद्गी के चंद लम्हों की ख्वाहिश क्यों है
हमें आखिर इतनी, अक्सर पुछा करते हैं लोग हमसे
हम कैसे उन्हे बतायें कि
ह्मारी जिंद्गी जो तुम हो।



कारवां उनकी यादों के हमारे साथ चले आये,
वो तो रूठ...
Forum: Aapki Shayri 8th March 2018, 10:14 AM
Replies: 1
Views: 1,062
Posted By MANOJTANHA
i invite suggestions on my above kavita

i invite suggestions on my above kavita
Forum: Aapki Shayri 5th March 2018, 08:30 AM
Replies: 1
Views: 1,062
Posted By MANOJTANHA
College ka woh pehla pyaar

COLLEGE KA WOH PEHLA PYAAR

Yaad hai mujhe aaj tak college ke woh din aur uski yaadain
Par hogi kya yaad usse bhee

college ka woh pehla din,
Dikhna us chehre kaa bus stop par
Naa koi jaan...
Forum: Shayri-e-Dard 4th March 2018, 07:09 PM
Replies: 2,440
Views: 162,891
Posted By MANOJTANHA
इजहारे इश्क़ हम कभी ना कर पाए, ये खता थी हमारी ...

इजहारे इश्क़ हम कभी ना कर पाए, ये खता थी हमारी
आँखों मे पढ़ कर भी अनजान बने रहे, ये अदा थी तुम्हारी,
अपना तुम्हे मान कर भी अपना कहें कैसे
बस इसी कशमकश मे गुजर गई ये जिंदगानी हमारी।

...
Forum: Shayri-e-Dard 4th March 2018, 07:04 PM
Replies: 2,440
Views: 162,891
Posted By MANOJTANHA
वक्त

कहते है कि वक्त सुब कुछ भुला देता है
कहते है कि वक्त हर जख्म भर देता है
ढूंड रहाँ हूं मैं वो वक्त आज तक
भुला तुझे पाउँ या भर पाउँ वो जख्म

मनोज तन्हा
Forum: Aapki Shayri 11th February 2018, 11:17 AM
Replies: 2
Views: 1,488
Posted By MANOJTANHA
Tanhai ka alam

तन्हा जिया करते हैं हम अपनी जिंदगी
उदासियों के साये में, किसी को बता न देना,
कि कहीं ये अँधेरे ना हमसे छिन जाये,
कुछ आदत सी पड गयी है तन्हाई उदासी और अंधेरों की,
तुमसे बिछड़ने के बाद,...
Showing results 1 to 34 of 34

 
Forum Jump


Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2020, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com