Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Search Forums

Showing results 1 to 40 of 217
Search took 0.02 seconds.
Search: Posts Made By: Advo.RavinderRaviSagar
Forum: Shayri-e-Ishq 7th June 2017, 04:53 PM
Replies: 3
Views: 1,710
खुदा करे

बहुत शौख है दिल लगाने का,
खुदा करे इस बरस शौख पूरा हो.!
मिलें या ना मिलें हम तुझ को,
तेरा देखा हुआ हर खवाब पूरा हो.!!
Bahut Shaukh Hai Dil Lagaane Ka,
Khuda Kare Is Baras Shaukh Poora Ho.!...
Forum: Shayri-e-Ishq 14th October 2015, 01:29 AM
Replies: 2
Views: 1,039
ख़ुदग़र्ज़ है ज़माना आजकल का

दिल के हर पल करीब क्यूँ रहते हो,
बताओ जो चला गया जहाँ से तो क्या करोगे.!
बेहद ख़ुदग़र्ज़ है ज़माना आजकल का,
बीती यादों के सहारे ज़िंदगी कब तल्क जीयोगे.!!
Forum: Shayri-e-Ishq 4th April 2015, 02:48 AM
Replies: 3
Dil
Views: 1,069
Dil

Suna hai Pathron mein bhi Dil hota hai "Sagar".!
Ye aur baat Na lge tab-talq Dhadkana Na jane.!! ​
Forum: Aapki Shayri 5th March 2015, 01:59 AM
Replies: 1
Views: 1,243
Waqt

वक़्त कब किसी का हुआ ये सब जानते हैं .!
फिर भी सारी बातें वक़्त पर डालते हैं.!!​



Waqt kab kisi ka hua ye sab jaante hain .!
Phirr bhi sari batein Waqt par dalte hain.!!​
Forum: Ghazal Section 12th November 2014, 10:40 PM
Replies: 0
Views: 1,102
Khoobsurat Gunaha Ho Jaane Do.!!

अपनी झुल्फों में क़ैद हो जाने दो.!
खूबसूरत गुनहा है अब हो जाने दो.!!
जाने कब टूट जायें साँसें ज़िंदगी की.!
साँसों को साँसों में मिल जाने दो.!!

लरजते होंठ खींचते हैं इस दिल को.!
लबों...
Forum: Ghazal Section 12th November 2014, 04:28 PM
Replies: 0
Views: 1,009
!!....."Sagar"Ki Tamnna.....!!

कम्सीन जवानी ये हिरनी सी चाल.!
निकले घर से तो हों सारे बेहाल.!!

आँखें शराबी और होंठ हैं लाल.!
सदके में हुआ ज़माना निहाल.!!

लचकती कमर है हाथ में रूमाल.!
देखे जो कोई हो उसका बुरा हाल.!!
...
Forum: Ghazal Section 11th October 2014, 03:39 AM
Replies: 0
Views: 1,416
Teri adaaoN se dar lagta hai.!!

Mujhe teri nigahaoN se dar lagta hai.!
Jaleem teri adaaoN se dar lagta hai.!!

Dekhati hai jab bhi palt kar mujhe.!
Meri Dil-e-DhadkanoN ko dar lagta hai.!!

Sochta huN tujhe BahoN meiN...
Forum: Ghazal Section 1st May 2014, 07:02 PM
Replies: 3
Views: 1,420
!!.....उनकी रेशमी झुलफें.....!!

राहा खड़े हैं हाथों में गुलाब लिए.!
उनकी रेशमी झुलफें सजाने के लिए.!!

कभी तो निकलोगे तन्हा घर से तुम.!
पड़े हैं राहा दिल लुटाने के लिए.!!

कोई तो तेरी भी कमी होगी क़ातिल.!
ना इतरा यूँ दिल...
Forum: Ghazal Section 25th March 2014, 01:39 AM
Replies: 1
Views: 1,245
मौत महबूबा है.!!

मौत तो खूबसूरत महबूबा है.!
एक ना एक दिन गले लगाना होगा.!!

दो चार दिन की चाँदनी है.!
फिर वापिस खुदा पास जाना होगा.!!

ज़िंदा रहते हज़ार गज कम पड़े.!
कफ़न ओढ़ दो गज में जाना होगा.!!

धन-दौलत...
Forum: Ghazal Section 16th March 2014, 09:58 PM
Replies: 1
Views: 964
//-----काश हम कुंवारे होते-----//

HAPPY HOLI

Kash hum jo Kunwaare hote.!
Phir din bhee huamaare hote.!!

Khelte Holi galee kooche chat.!
HathoN mein Rang dher sare hote.!!

HawaaoN si aazaadi hoti phir.!...
Forum: Ghazal Section 15th March 2014, 01:08 AM
Replies: 0
Views: 927
आशिक़ाना दिल.!!

नज़रों से गिराया है,
दिल से ना भुलाना.!
गैर का तस्व्वुर कर,
मेरा दिल ना दुखाना.!!

तेरी साँसों में था,
मेरी रूह का ठिकाना.!
भुला ना यूँ मुझे,
याद कर गुज़ारा ज़माना.!!
Forum: Ghazal Section 12th March 2014, 01:47 AM
Replies: 1
Views: 899
वक़्त.!!

इंसान वक़्त को नहीं,
वक़्त इंसान को चलाता है.!
ज़िंदगी के हर कदम को,
जीने की राहा दिखता है.!!

आदमी चाहे भी तो,
वक़्त को हरा सकता नहीं.!
सामने हो सागर फिर भी,
कोई तो प्यासा रह जाता है.!!
Forum: Ghazal Section 9th March 2014, 01:10 AM
Replies: 0
Views: 862
आँखें.!!

कितनी प्यारी हैं सनम की आँखें.!
मेरे दिल को दीवाना बनती आँखें.!!

अकेला ही चला था जीवन की राह.!
साथ हो गयी हैं सनम की आँखें.!!

मैकदे में भी इतना नशा ना होगा.!
बिन पिए नशा करती तेरी आँखें.!!
...
Forum: Ghazal Section 8th March 2014, 03:28 PM
Replies: 0
Views: 832
ना जाने कब.!!-

जाने किस घड़ी ज़िंदगी की शाम होगी.!
जान जाएगी और मौत से मुलाक़ात होगी.!!

ना रहूँगा फिर भी क़हक़हे होंगे.!
हर खुशी होगी ज़िंदगी चलती रहेगी.!!

किसीकी किसीको ज़रूरत नहीं किसीको.!
कमी नहीं...
Forum: Ghazal Section 8th March 2014, 01:19 AM
Replies: 2
Views: 888
Thanks,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,...

Thanks,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Forum: Ghazal Section 2nd March 2014, 01:05 PM
Replies: 2
Views: 888
एहसास.!!

कहने को दूर हो दिल से दूर नहीं.!
हवाओं के सहारे साँसों के करीब हो.!!

दिल की धड़कनो में बसी आवाज़ है.!
आ कर ख़यालों में हर रात साथ हो.!!

लफ़्ज कोई हो बस जाओ यादें बनकर.!
लिखता हूँ ग़ज़ल कोई...
Forum: Ghazal Section 1st March 2014, 08:23 PM
Replies: 0
Views: 775
वजहा.!!

कोई तो होती होगी वजह,
यूँही कोई बेवफा नहीं होता.!
मुहब्बत करने वाला दिल,
यूँही कभी खफा नहीं होता.!!

शिक़वा हो किससे और शिक़ायत कैसी.!
उल्फत में कोई दुश्मन नहीं होता.!!

वक़्त पे आना हो...
Forum: Shayri-e-Ishq 28th February 2014, 12:53 AM
Replies: 2
Views: 707
Many many Thanks,,,,,,,,,,,,,,,,,,

Many many Thanks,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Forum: Ghazal Section 28th February 2014, 12:50 AM
Replies: 0
Views: 834
बस तू ही.!!

तू ही ज़िंदगी है,
तू ही मेरी आरज़ू.!
तू ही साँसें है,
तू ही मेरी मंज़िल.!!

गैर की हो कर मुझे ना सता,
सेज पे और की खुदको ना सज़ा,
तू ही चैन है,
तू ही मेरा खवाब,,,,,
Forum: Shayri-e-Ishq 27th February 2014, 01:26 PM
Replies: 2
Views: 707
शिक़वा.!!

तू मिले या ना मिले,
कोई शिक़वा नहीं मुझे अब ज़िंदगी से.!
बहुत गुज़र गयी है,
बाकी गुज़र जाएगी तेरे ख़यालो में.!!

Tu mile ya na mile,
Koyi Shiqwa nahin mujhe ab zindgi se.!
Bahut guzar gayi...
Forum: Shayri-e-Ishq 27th February 2014, 01:22 PM
Replies: 2
Views: 725
Thanks...............................................

Thanks..............................................................
Forum: Shayri-e-Ishq 26th February 2014, 12:18 AM
Replies: 2
Views: 725
वजह.!!

ना तुझे चाहने की वजह थी,
और ना भूल ने की वजह है.!
बता मेरे महबूब तुझ संग,
बेवफ़ाई क्यूँ कैसे करूँ मैं.!!

Na tujhe chahne ki wajaha thi,
Aur na bhool ne ki wajaha hai.!
Bata mere...
Forum: Shayri-e-Ishq 25th February 2014, 11:43 PM
Replies: 0
Views: 699
ज़िंदगी की हद.!!

तेरे गेसुओं में रहना मेरी ज़िंदगी की हद है.!
ये और बात है तूने कभी यक़ीन किया नहीं.!!
तेरी खातिर जीना खातिर मरना मेरी ख्वाहिश है.!
पर तूने तो कभी मुझ से प्यार किया ही नहीं.!!



Tere gesuon...
Forum: Ghazal Section 24th February 2014, 02:13 PM
Replies: 2
Views: 954
Bahut Shuqriya ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,Janaab.!!

Bahut Shuqriya ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,Janaab.!!
Forum: Ghazal Section 24th February 2014, 02:09 PM
Replies: 0
Views: 869
काश तुझे भूल सकता मैं.!!

शराब पीके जो भूल सकता तो रोज पीता मैं.!
तेरी याद में पल-पल क्यूँ रोज मरता मैं.!!

तेरे बगैर ज़माने में कोई और खुशी नहीं.!
सहारा होता जो किसी और का रोज हंसता...
Forum: Ghazal Section 23rd February 2014, 02:12 AM
Replies: 2
Views: 954
बेवफ़ा.!!

कभी चाहा था जिसे दिल-ए-यार समझ कर.!
हुआ वही दुश्मन गैर का हमसफर हो कर.!!

मेरी वफ़ा की खता थी क्यूँ एतबार किया.!!
दे गया शिकसत मुझे दिल-ए-यार बन कर.!!

ज़िंदगी क्यूँ वक़त बेवक़त लेती है...
Forum: Ghazal Section 19th February 2014, 12:48 PM
Replies: 8
Views: 1,242
Thanksssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssss...

Thankssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssss.
Forum: Ghazal Section 19th February 2014, 01:13 AM
Replies: 0
Views: 845
Bhigee PalkoN Se Vida Kara Jana.!!

फ़ुर्सत हो तुझे तो आ जाना.!
जनाज़े पर अश्क़ बहा जाना.!!

किया था इश्क़ इस ग़रीब से.!
दुनियाँ को याद करा जाना.!!

होती है मुहब्बत एक बार ही.!
ज़माने को ये समझा जाना.!!

होंठो पे कसक...
Forum: Ghazal Section 19th February 2014, 12:51 AM
Replies: 8
Views: 1,242
Thanks allot..............................

Thanks allot..............................
Forum: Ghazal Section 19th February 2014, 12:49 AM
Replies: 8
Views: 1,242
Bahut shuqriya....................

Bahut shuqriya....................
Forum: Ghazal Section 19th February 2014, 12:47 AM
Replies: 8
Views: 1,242
Thank...

Thank you.!!...............................................
Forum: Shayri-e-Ishq 19th February 2014, 12:46 AM
Replies: 2
Views: 716
Shuqriyaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa

Shuqriyaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa
Forum: Shayri-e-Ishq 18th February 2014, 01:48 AM
Replies: 2
Views: 716
मुहब्बत.!!

इस क़द्दर मुहब्बत हमसे जो फरमाओगे.!
खुदा कसम बहुत सितम ढहाओगे.!!
ज़िंदा रहने की आरज़ू कैसे करेंगे तुम बिन.!
किसी दिन बेमौत ही मार जाओगे.!!


Is qaddar Muhabbat humse jo pharmaaoge.!
Khuda...
Forum: Shayri-e-Ishq 18th February 2014, 01:33 AM
Replies: 0
Views: 667
तेरी इबादत.!!

अपने हाथों की लकीरों से ना निकल मुझे.!
बड़ी शिद्दत से मैने तेरी इबादत की है.!!

Apne hathoN ki lakeeroN se na nikal mujhe.!
Badi shiddat se maine teri Ibaadat ki hai.!!
Forum: Ghazal Section 18th February 2014, 01:01 AM
Replies: 8
Views: 1,242
मेरी नहीं है अब तूँ.!!

गैर की है मेरी नहीं अब ये बात माननी होगी.!
किसी और सेज का फूल है ये बात जाननी होगी.!!

कभी होती थी हर सुबहा मेरे नाम से तेरी.!
अब तो ज़िंदगी तेरी याद में बस गुज़ारनी होगी.!!

साथ...
Forum: Ghazal Section 17th February 2014, 11:43 PM
Replies: 2
Views: 1,123
Thanksssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssss...

Thankssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssss,
Forum: Ghazal Section 17th February 2014, 02:23 PM
Replies: 2
Views: 1,123
बेवजहा दिल नहीं लगाया.!!

अपनी साँसों में तुझे पाया है.!
बेवजहा दिल नहीं लगाया है.!!

रोज़ आतो हो रात खवाबों में.!
तन्हाई में खूब रुलाया है.!!

मैने हर लम्हं करी ज़ुस्तज़ु तेरी.!
तूने मर्ज़ी से चेहरा दिखाया है.!!...
Forum: Ghazal Section 16th February 2014, 08:54 PM
Replies: 0
Views: 842
मेरी गली.!!

मेरी गली से गुज़रे वो होंठो पर चंचल मुस्कान लिए.!!
शायद सनम को भी एहसास था इधर दिल खोने का.!!

निगाहें उठाकर ढूंडती वो कभी इधर कभी उधर.!
अपने दिल पर मेरे महबूब को इखत्यार ना था.!!

घर से चली...
Forum: Ghazal Section 16th February 2014, 01:11 AM
Replies: 2
Views: 973
Thank .................... You.

Thank .................... You.
Forum: Ghazal Section 16th February 2014, 01:05 AM
Replies: 0
Views: 822
तेरी अदाओं ने लूटा है.!!

क़ातिल तेरी अदाओं ने लूटा है.!
मुझे तेरी जफाओं ने लूटा है.!!

शौक नहीं था मुझे मर-मिटने का.!
साकी नशीली निगहाओं ने लूटा है.!!

बिखरी है खुशहू तेरी साँसों की.!
मुझ को तो इन हवाओं ने लूटा...
Showing results 1 to 40 of 217

 
Forum Jump


Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2022, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com