Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Search Forums

Showing results 1 to 40 of 1000
Search took 0.08 seconds.
Search: Posts Made By: zarraa
Forum: Ghazal Section 16th January 2021, 09:59 AM
Replies: 0
Views: 88
Posted By zarraa
raaz ko khola hai is andaaz meN

राज़ को खोला है इस अन्दाज़ में
जो था ज़ाहिर वो छुपाया राज़ में

आसमां में याद आया आशियां
लुत्फ़ कम होता गया परवाज़ मे

दूर ही जाते गए हैं राह भर
वरना मन्ज़िल पर थे हम आग़ाज़ में

काम सरगोशी...
Forum: Ghazal Section 16th January 2021, 09:57 AM
Replies: 1
Views: 6,156
Posted By zarraa
वाह बहुत ख़ूब

वाह बहुत ख़ूब
Forum: Shayri-e-Ishq 16th January 2021, 09:56 AM
Replies: 2
Views: 2,261
Posted By zarraa
Waaahhhh ……………………………………… Bahaut Khoob

Waaahhhh ……………………………………… Bahaut Khoob
Forum: Ghazal Section 4th January 2021, 08:25 AM
Replies: 0
Views: 470
Posted By zarraa
dil meN raushan umeed kar aaya

मैं सियह को सपीद कर आया
दिल में रौशन उमीद कर आया

दौर-ए-ज़ुल्मत मैं तेरा शुक्रगुज़ार
तुझ में हूं अपनी दीद कर आया

वो यक़ीं था तेरे भरोसे पर
जश्न मैं बे-नवीद कर आया

एक ही आरज़ू थी और वो भी
Forum: Ghazal Section 4th January 2021, 08:20 AM
Replies: 1
Views: 5,306
Posted By zarraa
वाह बहुत ख़ूब

वाह बहुत ख़ूब
Forum: Shayri-e-Ishq 4th January 2021, 08:18 AM
Replies: 3
Views: 1,615
Posted By zarraa
Wah wah

Wah wah
Forum: Shayri-e-Dard 28th December 2020, 05:01 AM
Replies: 0
Views: 241
Posted By zarraa
ye tayshuda tha ki mujh ko saza to hogi hi

ये तयशुदा था कि मुझ को सज़ा तो होगी ही
मेरी नहीं हो किसी की ख़ता तो होगी ही

ये ज़िन्दगी है इसे इस क़दर ना प्यार करो
बहुत हसीन है ये बेवफ़ा तो होगी ही

कोई हबीब नहीं है तबीब ले आओ
दुआ के जैसे...
Forum: Ghazal Section 20th December 2020, 10:03 PM
Replies: 1
Views: 706
Posted By zarraa
yooN na rasman bhala bhala kahie

दाग़ देहलवी के मिसरे और ज़मीन पर, माज़रत के साथ

यू़ं ना रस्मन भला भला कहिए
कहिए कहिए मुझे बुरा कहिए #
# दाग़ देहलवी का मिसरा

कितना मर मर के इस को पाया है
आब-ओ-दाने को ख़ूं-बहा कहिए

बस...
Forum: Shayri-e-Ishq 20th December 2020, 10:00 PM
Replies: 1
Views: 834
Posted By zarraa
Waaahhhh Waaahhhh

Waaahhhh Waaahhhh
Forum: Ghazal Section 20th December 2020, 09:58 PM
Replies: 5
Views: 6,162
Posted By zarraa
Waaahhhh ................... Bahaut Khoob

Waaahhhh ................... Bahaut Khoob
Forum: Ghazal Section 20th December 2020, 09:57 PM
Replies: 3
Views: 25,170
Posted By zarraa
Waaahhhh .......................... Bahaut Khoob

Waaahhhh .......................... Bahaut Khoob
Forum: Shayri-e-Dard 5th December 2020, 07:38 PM
Replies: 0
Views: 503
Posted By zarraa
hum karte gae

ज़िन्दगी से प्यार हम करते गए
और इसे दुश्वार हम करते गए

शौक़ भी पाला उमीदें भी रखीं
दिल को यूं बेज़ार हम करते गए

हाथ को कासा बना डाला मगर
सर को भी दस्तार हम करते गए

दिन को जो तामीर...
Forum: Ghazal Section 29th November 2020, 02:08 AM
Replies: 0
Views: 761
Posted By zarraa
kam kuchh bhi manzoor naheeN

प्यास में प्यासा मर जाने से कम कुछ भी मंज़ूर नहीं
पीना है तो मयख़ाने से कम कुछ भी मंज़ूर नहीं

करनी है तो कर लेते हैं खुल के आओ अदावत हम
ये जो नहीं तो याराने से कम कुछ भी मंज़ूर नहीं

एक...
Forum: Aapki Shayri 29th November 2020, 02:05 AM
Replies: 1
Views: 1,267
Posted By zarraa
वाह बहुत ख़ूब

वाह बहुत ख़ूब
Forum: Shayri-e-Dard 22nd November 2020, 10:01 PM
Replies: 0
Views: 575
Posted By zarraa
intiha par intiha hooN kar raha

इंतिहा पर इंतिहा हूं कर रहा
जाने क्या है वो ख़ला जो भर रहा

शौक़ तो जाता रहा आग़ोश का
पीठ पे पैवस्त पर ख़ंजर रहा

देने वाले ने तो भर डाला उसे
वो मेरा दामन ही कुछ कमतर रहा

मुझ से...
Forum: Shayri-e-Ishq 22nd November 2020, 09:59 PM
Replies: 1
Views: 649
Posted By zarraa
Waah ................................ waah

Waah ................................ waah
Forum: Ghazal Section 8th November 2020, 07:35 AM
Replies: 0
Views: 826
Posted By zarraa
vahi sab kuchh dobaara ho raha hai

नई रविशों से सारा हो रहा है
वही सब कुछ दोबारा हो रहा है

तुम्हें भी नफ़अ क्या इस के अलावा
कि औरों का खसारा हो रहा है

सितम होता है क्या इस में अजब है
अजब ये है गवारा हो रहा है

हटाओ ये...
Forum: Shayri-e-Sharaab 30th October 2020, 11:11 AM
Replies: 0
Views: 1,351
Posted By zarraa
hum phire dar-ba-dar sharaab ke baad

सब गए अपने घर शराब के बाद
हम फिरे दर-ब-दर शराब के बाद

कैसे घुल-मिल गए हैं आपस में
शाम-ओ-लैल-ओ-सहर शराब के बाद

हो गया तेरा काम पर ऐ दोस्त
दो घड़ी तो ठहर शराब के बाद

या तो पी ले शराब...
Forum: Shayri-e-Sharaab 30th October 2020, 11:09 AM
Replies: 2
Views: 50,984
Posted By zarraa
waah ............. bahaut khub

waah ............. bahaut khub
Forum: Ghazal Section 28th October 2020, 10:35 AM
Replies: 0
Views: 953
Posted By zarraa
apni parwaaz ko jab thaam liya hai hum ne

अपनी परवाज़ को जब थाम लिया है हम ने
आसमानों को तह-ए-दाम लिया है हम ने

ग़ैर तो ग़ैर उसे तू भी ना पहचान सका
ऐसी शिद्दत से तेरा नाम लिया है हम ने

जिस तबीअत से है ली साहिब-ए-महफ़िल से दाद
उस...
Forum: Ghazal Section 28th October 2020, 10:33 AM
Replies: 1
Views: 979
Posted By zarraa
waah ............................ bahaut khoob

waah ............................ bahaut khoob
Forum: Shayri-e-Dard 22nd October 2020, 03:36 AM
Replies: 0
Views: 1,061
Posted By zarraa
kya ye sach hai ki hamsafar ham haiN

क्या ये सच है कि हमसफ़र हम हैं
या के बस तेरी रहगुज़र हम हैं

हार जाते हैं आशियाने से
वरना कहने को तो शजर हम हैं

एक बस प्यार ही की हाजत है
और उस में भी बेहुनर हम हैं

हम ने चाहा नहीं...
Forum: Shayri-e-Ishq 22nd October 2020, 03:35 AM
Replies: 3
Views: 4,513
Posted By zarraa
Bahaut Khoob ............ waah

Bahaut Khoob ............ waah
Forum: Shayri-e-Dard 15th October 2020, 10:34 PM
Replies: 0
Views: 911
Posted By zarraa
dar-ba-dar apne ghar meN rahte haiN

हम तो दाइम सफ़र में रहते हैं
दर-ब-दर अपने घर में रहते हैं

जैसे जलते हुए मकां के मकीं
यूं किसी की नज़र में रहते हैं

महर-ओ-माह आसमान में ढूंढें
और वो बाम-ओ-दर में रहते हैं

घर की...
Forum: Shayri-e-Dard 15th October 2020, 10:33 PM
Replies: 6
Views: 11,115
Posted By zarraa
Waaahhhh waaahhhh ........ khoobsurat gazal

Waaahhhh waaahhhh ........ khoobsurat gazal
Forum: Shayri-e-Dard 15th October 2020, 10:32 PM
Replies: 10
Views: 1,410
Posted By zarraa
Waaahhhh ....................... waaahhhh

Waaahhhh ....................... waaahhhh
Forum: Shayri-e-Ishq 15th October 2020, 10:31 PM
Replies: 1
Views: 352
Posted By zarraa
Waaahhhh .................. waaahhhh

Waaahhhh .................. waaahhhh
Forum: Ghazal Section 9th October 2020, 07:35 PM
Replies: 1
Views: 1,057
Posted By zarraa
raaste humvaar karte hi gae

रास्ते हमवार करते ही गए
मंज़िलें मिस्मार करते ही गए

घर को वीराना बना डाला मगर
दश्त को गुलज़ार करते ही गए

सहन-ए-दिल खोला रफ़ीक़ों के लिए
वो इसे बाज़ार करते ही गए

हम ने भी दस्तक ना दी...
Forum: Ghazal Section 9th October 2020, 07:34 PM
Replies: 2
Views: 3,538
Posted By zarraa
Waaaahhhh ..................... khoob

Waaaahhhh ..................... khoob
Forum: Shayri-e-Ishq 9th October 2020, 07:33 PM
Replies: 5
Views: 7,307
Posted By zarraa
waahhh ....................... khoob

waahhh ....................... khoob
Forum: Ghazal Section 3rd October 2020, 07:48 PM
Replies: 0
Views: 1,059
Posted By zarraa
haalat na dekhiye mera pindaar dekhiye

हालत ना देखिये मेरा पिन्दार देखिये
दामन है तार तार तो दस्तार देखिये

ख़ल्वत में आ के पूछिये मत मुझ से मेरा हाल
मेरा तमाशा तो सर-ए-बाज़ार देखिये

जिन गेसुओं को ग़ैर पे खुलना है एक रोज़
उन को...
Forum: Ghazal Section 3rd October 2020, 07:47 PM
Replies: 5
Views: 2,942
Posted By zarraa
Waaahhhh .... waaahhhh .... bahaut hi khoob

Waaahhhh .... waaahhhh .... bahaut hi khoob
Forum: Shayri-e-Dard 3rd October 2020, 07:45 PM
Replies: 1
Views: 1,810
Posted By zarraa
Waaahhhh ............. Bahaut Khoob

Waaahhhh ............. Bahaut Khoob
Forum: Shayri-e-Ishq 26th September 2020, 11:44 AM
Replies: 1
Views: 639
Posted By zarraa
teri ada meN dhal gae

हम से गिला ना कर कि हम, तेरी अदा में ढल गए
हिज्र के दिन बढ़ा गए, वस्ल का दिन बदल गए

जितने भी ख़्वाब आए थे, सारे ही बे-अमल गए
कुछ हुए ग़र्क़ रात में, कुछ थे सुबह को जल गए

हम हैं कहां ये...
Forum: Shayri-e-Dard 26th September 2020, 11:43 AM
Replies: 1
Views: 1,542
Posted By zarraa
waah .....................,. bahaut khoob

waah .....................,. bahaut khoob
Forum: Shayri-e-Dard 21st September 2020, 12:27 PM
Replies: 0
Views: 1,244
Posted By zarraa
dil ke armaaN kisi se kya kahte

दिल के अरमां किसी से क्या कहते
सब थे बे-जां किसी से क्या कहते

ग़मगुसारों का था हुजूम मगर
तू ना था वां किसी से क्या कहते

चश्म-ए-पुर-नम ने राज़ खोल दिए
लब-ए-ख़न्दां किसी से क्या कहते

घर...
Forum: Shayri-e-Mashahoor Shayar 21st September 2020, 12:24 PM
Replies: 3
Views: 4,208
Posted By zarraa
Waaahhhh ..... waaahhhh .... behad khoobsurat...

Waaahhhh ..... waaahhhh .... behad khoobsurat gazal
Forum: Shayri-e-Ishq 21st September 2020, 12:22 PM
Replies: 9
Views: 8,234
Posted By zarraa
Waaahhhh ... bahaut khoobsurat gaza Shaad bhai...

Waaahhhh ... bahaut khoobsurat gaza Shaad bhai ... kaafi waqt baad aap ka kalaam dekhna achchha laga
Forum: Shayri-e-Dard 10th September 2020, 12:01 AM
Replies: 0
Views: 2,296
Posted By zarraa
tazmeeni gazal ... zindagi se hum

साहिर लुधयानवी की ग़ज़ल की तज़मीन की कोशिश, माज़रत के साथ

तंग आ चुके हैं कश्मकश-ए-ज़िंदगी से हम" #
दुनिया को लग रहा है कि हारे उसी से हम
# साहिर का मिसरा

ये कब कहा कि इस ने हमें कुछ...
Forum: Shayri-e-Dard 9th September 2020, 11:59 PM
Replies: 1
Views: 1,208
Posted By zarraa
bahaut khoob ..................... waah waaahhh

bahaut khoob ..................... waah waaahhh
Showing results 1 to 40 of 1000

 
Forum Jump


Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2021, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com