Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Search Forums

Showing results 1 to 40 of 106
Search took 0.01 seconds.
Search: Posts Made By: Baghbaan
Forum: Ghazal Section 17th December 2019, 01:50 PM
Replies: 2
Views: 22,025
Posted By Baghbaan
Bhut Bhut Shukriya Madhu Ji. Jaspal

Bhut Bhut Shukriya Madhu Ji.


Jaspal
Forum: Ghazal Section 15th December 2019, 07:04 PM
Replies: 0
Views: 1,219
Posted By Baghbaan
बहुत कुछ की ख्वाहिश में, बहुत कुछ छूट जाता ह&#

बहुत कुछ की ख्वाहिश में, बहुत कुछ छूट जाता है
ज्यादा मिट्टी से भी, कच्चा घड़ा टूट जाता है l

संभल के चलना पड़ता है, किसी भी दोराहे पे पहुंचकर
जरा सी भी चूक से, सही रास्ता ही छूट जाता है l
...
Forum: Ghazal Section 15th December 2019, 06:55 PM
Replies: 4
Views: 3,848
Posted By Baghbaan
Shukriya Madhu ji....koshish jaari rhegi.... ...

Shukriya Madhu ji....koshish jaari rhegi....

Jaspal
Forum: Ghazal Section 31st October 2019, 12:59 PM
Replies: 2
Views: 22,025
Posted By Baghbaan
अब कोई भी शह सताती नहीं

अब कोई भी शह सताती नहीं
भूली कोई बात याद आती नहीं l

जो गुज़र रही है वही तो हकीक़त है
ज़िन्दगी झूठे ख्वाब दिखाती नहीं l

राह-ए-मंजिल पे चलना ही नसीब है
मंजिल खुद-ब खुद पास आती नहीं l
...
Forum: Ghazal Section 7th October 2019, 10:57 AM
Replies: 4
Views: 3,848
Posted By Baghbaan
शुक्रिया l जसपाल (Baghbaan)

शुक्रिया l

जसपाल
(Baghbaan)
Forum: Ghazal Section 6th October 2019, 04:04 PM
Replies: 4
Views: 3,848
Posted By Baghbaan
देखने परखने में ही उम्र गुज़र जाती है

देखने परखने में ही उम्र गुज़र जाती है
आते-आते ही दुनिया समझ में आती है l

अपनी ख़ामोशी को इतना ना बढ़ाओ यूँ ही
गुमशुदाओं को ये दुनिया भूल ही जाती है l

देख के चलना ही बेहतर है जीने के लिए
बंद...
Forum: Ghazal Section 11th September 2019, 06:15 PM
Replies: 0
Views: 3,068
Posted By Baghbaan
बंद आँखों से जब भी देखा, जितने थे सब अपने लगे

बंद आँखों से जब भी देखा, जितने थे सब अपने लगे
आँख खुली तो हमने पाया, सपने भी हम पे हंसने लगे l

उलझन में सब, सोच में हैं सब, कौन है अपना कौन पराया
पर्दों में जो छिप के रहते, आईने में वे सब...
Forum: Ghazal Section 20th August 2019, 07:35 PM
Replies: 0
Views: 3,890
Posted By Baghbaan
दर्द ठहर ही जाता है कुछ दिन, कुछ साल में

दर्द ठहर ही जाता है, कुछ दिन कुछ साल में
रात भी कट ही जाती है, जैसे हर हाल में l

बातों बातों में जो कुछ बात रह गयी थी
आईने से ही कह देते हैं, अब इसी मलाल में l

दूर रह के भी तो रिश्ते जिंदा...
Forum: Ghazal Section 4th August 2019, 11:10 AM
Replies: 0
Views: 4,539
Posted By Baghbaan
ये जो आँखों में हल्की चुभन सी है इसको तो ख़लि&

ये जो आँखों में हल्की चुभन सी है इसको तो ख़लिश का नाम न दो
तूफां में मिट्टी आयी है इसको गिरने दो तुम थाम न लो l

खुदगर्ज ज़माने में अक्सर लोगों की फितरत ऐसी है
अफ़सोस जुबां पे होता है और आँखों...
Forum: Ghazal Section 24th July 2019, 05:49 PM
Replies: 0
Views: 2,704
Posted By Baghbaan
ख़्वाबों की स्याही से जब भी हमने कुछ लिखना च

ख़्वाबों की स्याही से जब भी हमने कुछ लिखना चाहा
सामने आ गयी हकीकत, आ गया इक दोराहा l

राख ही है दुनिया में सब कुछ चाहे इंसा हो चाहे दौलत
फिर काहे को तेरा मेरा, क्या चौखट क्या चौबारा l

बस...
Forum: Ghazal Section 8th July 2019, 10:02 PM
Replies: 2
Views: 3,942
Posted By Baghbaan
Smile शुक्रिया ....l जसपाल (baghbaan)

शुक्रिया ....l

जसपाल (baghbaan)
Forum: Ghazal Section 3rd July 2019, 12:58 PM
Replies: 2
Views: 3,942
Posted By Baghbaan
धुंआ धुंआ सा दिखता है क्यूँ हर तरफ

धुंआ धुंआ सा दिखता है क्यूँ हर तरफ
बुझा बुझा सा लगता है क्यूँ हर तरफ l

सर पे लादे हुए उलझनों की पोटली इंसा
घूमता फिरता रहता है क्यूँ हर तरफ l

आती जाती तो रहती है खुशियाँ हर किसी के वास्ते ...
Forum: Ghazal Section 6th June 2019, 05:44 PM
Replies: 0
Views: 3,697
Posted By Baghbaan
हां कह कर फिर साथ न देने से अच्छा है ना कह देन

हां कह कर फिर साथ न देने से अच्छा है ना कह देना
झूठे वादों पर रहने से बेहतर है कुछ खुद कर लेना l

कोई भुलाए या कोई रुलाये शिकवा कभी ना उनसे करना
वक़्त का सारा खेल है यारों आज ख़ुशी तो कल ग़म...
Forum: Ghazal Section 29th April 2019, 12:41 PM
Replies: 0
Views: 3,210
Posted By Baghbaan
जहाँ दिल ना कहे वहां जाया नहीं करते

जहाँ दिल ना कहे वहां जाया नहीं करते
किसी का दिल यूँ ही दुखाया नहीं करते l

उजाला बन के अंधेरों से भी वास्ता रखना
अँधेरी राहों में चरागों को बुझाया नहीं करते l

तुम्हारे वास्ते दुनिया भले ही...
Forum: Ghazal Section 12th April 2019, 08:19 PM
Replies: 0
Views: 2,860
Posted By Baghbaan
जो खुद से ही खफ़ा रहते हैं वो औरों को कब समझते

जो खुद से ही खफ़ा रहते हैं वो औरों को कब समझते हैं
कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो खुद में ही खोये रहते हैं l

जिन्हें खुद पर यकीं नहीं होता उन्हें सच भी दिखाई नहीं देता
वो झूठ के कन्धों पर चढ़कर फिर...
Forum: Ghazal Section 29th March 2019, 11:43 AM
Replies: 0
Views: 1,801
Posted By Baghbaan
जा रही है क्यूँ रौशनी धुंध अभी तो बाक़ी है

जा रही है क्यूँ रौशनी धुंध अभी तो बाक़ी है
दूर मंजिल ही सही इक पहल अभी काफी है l

कौन ठहरा है यहाँ सब ही तो मुसाफिर हैं
आना जाना है लगा रुत तो आनी जानी है l

आँखों से जो बह निकले वो ही अश्क...
Forum: Ghazal Section 19th January 2019, 02:54 PM
Replies: 0
Views: 1,433
Posted By Baghbaan
जो चला गया वो फरेब था जो मिला वो ही नसीब है

जो चला गया वो फरेब था जो मिला वो ही नसीब है
सरे आम चेहरे बदलते हैं ये कैसा खेल अजीब है l

कोई ढूंढने से नहीं मिला कोई पास होते भी दूर है
ये निगाह-ए-भरम तो नहीं जो नसीब था वो करीब है l

कई...
Forum: Ghazal Section 11th January 2019, 06:15 PM
Replies: 0
Views: 704
Posted By Baghbaan
ज़िन्दगी में कई मोड़ आये

नमस्कार l एक पुरानी ग़ज़ल सुन रहा था ........आज सोचा तो आंसू भर आये ...मुद्दतें हो गई मुस्कराए l इसी ग़ज़ल को ध्यान में रखते हुए कुछ लिखने की कोशिश की है ...उम्मीद करता हूँ यह ग़ज़ल आपको पसंद आएगी l
...
Forum: Ghazal Section 5th September 2018, 03:36 PM
Replies: 4
Views: 1,558
Posted By Baghbaan
Dear Kabir ji, Sincerely appreciate your words...

Dear Kabir ji,
Sincerely appreciate your words and feelings. Though I am writing casually but now not posting in this forum...I normally share it with my friends over social network.....Thanks very...
Forum: Ghazal Section 21st March 2018, 11:43 AM
Replies: 0
Views: 822
Posted By Baghbaan
बुलाने पे भी न वो रूका, मेरी ख़ामोशी ही अच्छी &

बुलाने पे भी न वो रूका, मेरी ख़ामोशी ही अच्छी थी
अगर मैं होश में न था तो वो बेहोशी ही अच्छी थी l

किसी के वास्ते जीना, उसी के वास्ते मरना
यूँ चुप रहना भी क्या रहना, थोड़ी सरगोशी ही अच्छी थी l
...
Forum: Ghazal Section 3rd January 2018, 06:32 PM
Replies: 0
Views: 941
Posted By Baghbaan
हर ख़ुशी अपने पीछे ग़म छोड़ जाती है आँखों के सा&#

हर ख़ुशी अपने पीछे ग़म छोड़ जाती है
आँखों के सागर की भी हद तोड़ जाती है
Har Khushi Apne Peeche Gham Chour Jaati Hai
Aankhon Ke Sagar Kii Bhi Had Tod Jaati Hai

मैं नहीं कहता, कहता है ज़माना
होता...
Forum: Ghazal Section 26th December 2017, 02:54 PM
Replies: 4
Views: 1,065
Posted By Baghbaan
Bhut bhut shukriya Shaad Saheb.Koshish zaari...

Bhut bhut shukriya Shaad Saheb.Koshish zaari rhegi.
Regards,
Jaspal
Forum: Ghazal Section 18th December 2017, 05:44 PM
Replies: 4
Views: 1,065
Posted By Baghbaan
Shukriya Arvind ji. Regards, Jaspal

Shukriya Arvind ji.
Regards,
Jaspal
Forum: Ghazal Section 14th December 2017, 05:49 PM
Replies: 4
Views: 1,065
Posted By Baghbaan
वो जो टूटा था इक तारा था मेरा दिल तो नहीं

वो जो टूटा था इक तारा था मेरा दिल तो नहीं
कितने सितम मुझपे किये, मेरा दिल था वो संगदिल तो नहीं

Wo Jo Toota Tha Ek Tara Tha Mera Dil To Nahin
Kitne Sitam Mujhpe Kiye, Mera Dil Tha Wo Sangdil To...
Forum: Ghazal Section 5th December 2017, 03:55 PM
Replies: 4
Views: 1,558
Posted By Baghbaan
Shukriya Sunita ji.☺☺ Regards, Jaspal

Shukriya Sunita ji.☺☺
Regards,
Jaspal
Forum: Ghazal Section 2nd December 2017, 07:51 PM
Replies: 4
Views: 1,558
Posted By Baghbaan
गिरना बुरा नहीं होता ग़र गिर के संभल सको

गिरना बुरा नहीं होता ग़र गिर के संभल सको
रुकना भी लाज़मी है जो फिर से चल सको l
GIRNA BURA NAHIN HOTA GAR GIR KE SAMBHAL SKO
ROOKNA BHI LAZMI HAI JO FIR SE CHAL SKO

लेती है ज़िन्दगी भी यूँ करवटें...
Forum: Ghazal Section 18th December 2015, 01:36 PM
Replies: 7
Views: 740
Posted By Baghbaan
Madhu ji, bhut bhut shukriya....aapko yeh Ghazal...

Madhu ji, bhut bhut shukriya....aapko yeh Ghazal achhi lgi.

Baghbaan (Jaspal)
Forum: Ghazal Section 18th December 2015, 01:34 PM
Replies: 7
Views: 740
Posted By Baghbaan
Sunita ji, Sabse pehle aapka bhut bhut...

Sunita ji, Sabse pehle aapka bhut bhut thanks....aapko Ghazal achhi lgi. Ab rha swal aapke question ka...Mai Chandigarh me 3 saal posting pr rha hoon (Sept 20111 se Oct 2015). Iss douran aapse mila...
Forum: Ghazal Section 18th December 2015, 01:24 PM
Replies: 7
Views: 740
Posted By Baghbaan
Ishk Saheb, bhut bhut shukriya...... ...

Ishk Saheb, bhut bhut shukriya......

Baghbaan (Jaspal)
Forum: Ghazal Section 18th December 2015, 01:21 PM
Replies: 12
Views: 1,609
Posted By Baghbaan
Jaise tum ajnabii hue humse, YooN koii bekhabar...

Jaise tum ajnabii hue humse,
YooN koii bekhabar nahii hotaa..

Bhut Khoob Shaad ji.

Baghbaan (Jaspal)
Forum: Ghazal Section 17th December 2015, 02:14 PM
Replies: 7
Views: 740
Posted By Baghbaan
Koi Choota Hathon Se yun Fir Usey Na Pa Ske

Bhool Hum Se Jo Huyi Hai Bhool Se Bhi Bhool Na Ske
Koi Choota Hathon Se yun Fir Usey Na Pa Ske

Timtimata Ek Tara Jo Abhi Tha Saamne
Ghir Gye Badal Se Hum Yun Us Taraf Na Ja Ske

Sansnati Ek...
Forum: Ghazal Section 6th November 2015, 05:18 PM
Replies: 4
Views: 779
Posted By Baghbaan
Madhu ji, Sameer Ji Aur Ishk Saheb, Aapse...

Madhu ji, Sameer Ji Aur Ishk Saheb,

Aapse miley houslon ke liye aap teeno ka aur un sabhi doston ka jinhone iss Ghazal ko pda hai, bhut bhut shukriya. Achha likne ki Koshish yun hi jaari rhegi.
...
Forum: Ghazal Section 3rd November 2015, 04:51 PM
Replies: 4
Views: 779
Posted By Baghbaan
Yeh Sham Ki Nami Si Hai

Kafi arse ke baad kuch likha hai. Umeed krta hoon ki aapko pasand aayega.


Yeh Sham Ki Nami Si Hai Ya Din Ka Grur Hai
Matlab Har Ek Baat Ka Hota Zrur Hai

Palken Hain Aaj Bhari Moti Liye Huye...
Forum: Ghazal Section 17th September 2014, 12:26 PM
Replies: 11
Views: 2,099
Posted By Baghbaan
Zainy ji, thanks for editing Maqta. ...

Zainy ji, thanks for editing Maqta.

Regards,

Baghbaan (Jaspal)
Forum: Ghazal Section 16th September 2014, 03:32 PM
Replies: 16
Views: 2,675
Posted By Baghbaan
Lamha ji, Bhut badiya Ghazal. Ek ajib c...

Lamha ji,

Bhut badiya Ghazal. Ek ajib c kashmkash mehsoos huyi isey pdkr. Behtrin andaz aur khubsoorat peshkash.

Baghbaan (Jaspal)
Forum: Ghazal Section 14th September 2014, 12:09 PM
Replies: 11
Views: 2,099
Posted By Baghbaan
Naazuk ji, Bhut bhut shukriya, aapne ghazal...

Naazuk ji,

Bhut bhut shukriya, aapne ghazal pdi aur apni raay bheji. Maqte mey ek galti rh gyi. 'Jano' k badle 'Jane' hona chahiye tha. Isme main yeh kehna chahta hoon ki bekhudi mey insaan...
Forum: Ghazal Section 14th September 2014, 12:06 PM
Replies: 11
Views: 2,099
Posted By Baghbaan
Naazuk ji, Bhut bhut shukriya, aapne ghazal...

Naazuk ji,

Bhut bhut shukriya, aapne ghazal pdi aur apni raay bheji. Maqte mey ek galti rh gyi. 'Jano' k badle 'Jane' hona chahiye tha. Isme main yeh kehna chahta hoon ki bekhudi mey insaan...
Forum: Ghazal Section 13th September 2014, 01:27 PM
Replies: 11
Views: 2,099
Posted By Baghbaan
Mujib Ji, Sarika Ji aur Shaad ji, Aap sbhi...

Mujib Ji, Sarika Ji aur Shaad ji,

Aap sbhi ka bhut bhut shukriya. Aap sbhi ne Ghazal Pdi aur apni beshkeemti raay mujhe bheji. Main koshish krta rhunga aur behatar likhne ka.

Aapka
...
Forum: Gauhar-e-shayri.com 5th September 2014, 12:02 PM
Replies: 20
Views: 46,831
Posted By Baghbaan
Zarraa ji, Bhut acchha lga aapki gazal ko...

Zarraa ji,
Bhut acchha lga aapki gazal ko pdkar. Congrats for very good work.

Regards,
Baghbaan (Jaspal)
Forum: Ghazal Section 5th September 2014, 12:02 PM
Replies: 8
Views: 3,191
Posted By Baghbaan
Zarraa ji, Bhut acchha lga aapki gazal ko...

Zarraa ji,
Bhut acchha lga aapki gazal ko pdkar. Congrats for very good work.

Regards,
Baghbaan (Jaspal)
Showing results 1 to 40 of 106

 
Forum Jump


Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2020, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com