View Single Post
good
Old
  (#3)
akant
Registered User
akant is a splendid one to beholdakant is a splendid one to beholdakant is a splendid one to beholdakant is a splendid one to beholdakant is a splendid one to beholdakant is a splendid one to beholdakant is a splendid one to behold
 
akant's Avatar
 
Offline
Posts: 1,768
Join Date: Apr 2003
Location: UP, India
Rep Power: 26
good - 17th July 2017, 01:36 PM

Quote:
Originally Posted by Dev Kumar View Post
होंठ जैसे गुलाब के फूल हो
बाल जैसे काली काली घटा

आँख जैसे गहरा सागर
पलकों पर जैसे हर मौसम फ़िदा

हर एक मुस्कान पर मरे कितने ही
उसकी है हर बात निराली और जुदा

नज़र उठे तो घटा छा जाये
नज़र गिरे तो हो जाये बारिश

और क्या कहू उसकी शान में आप सब से
बस छोटी सी ये एक मिसाल है उसके हुसन की।

देव कुमार
Dev kumar ji

bahut achchhi koshish hai aapki... likhawat se vastavikata jhalakti hai..
likhate rahiye..

shubhkamnao sahit,
Akant...


*********
आहट सी कोइ आये तो समझ लेना कि तुम हो...
AahaT si koi aaye to samajh lena ki tum ho...
   
Reply With Quote