View Single Post
Net ijaad hua ishq me maron ke liye
Old
  (#1)
Madhu 14
Moderator
Madhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud of
 
Madhu 14's Avatar
 
Offline
Posts: 5,182
Join Date: Jul 2014
Rep Power: 24
Net ijaad hua ishq me maron ke liye - 22nd February 2017, 10:57 PM

. Ye nazm kuchh search karte waqt mili to socha share kar dun. 😃 halankih ye nazm bhi update mangti hai 😃

Net ijaad hua hijr ke maroN ke liye
Search engine hai badi cheez kunwaroN ke liye

नेट इजाद हुआ हिज्र के मारों के लिये
सर्च इंजन है बड़ी चीज़ कुंवारों के लिये

Jis ko sadma shab e tanhaee ke ayyaam ka hai
Aese aashiq ke liye net bohot kaam ka hai

जिस को सदमा शब-ए-तन्हाई के अय्याम का है
ऐसे आशिक़ के लिए नेट बहुत काम का है

Net Farhaad ko ShereeN se mila deta hai
Ishq insan ko google pe bitha deta hai

नेट फ़रहाद को शीरीं से मिला देता है
इश्क़ इंसान को गूगल पे बिठा देता है

Kaam maktoob ka mouse liya jata hai
Aah e sozaN ko bhi upload kiya jata hai

काम मक्तूब का माउस लिया जाता है
आह-ए-सोज़ाँ को भी अपलोड किया जाता है

Text mein log muhabbat ki khata bhejte hain
Ghar batatey nahi office ka pata bhejte hain

टेक्स्ट में लोग मुहब्बत की ख़ता भेजते हैं
घर बताते नहीं ऑफिस का पता भेजते हैं

AashiqoN ka ye naya tour naya type hai
Pahle chilman hua karti thi ab Skype hai

आशिकों का ये नया तौर नया टाइप है
पहले चिलमन हुआ करती थी अब स्काइप है

Ishq kahte hain jise ek naya samjhouta hai
Pahle dil milte the ab naam click hota hai

इश्क़ कहते हैं जिसे इक नया समझौता है
पहले दिल मिलते थे अब नाम क्लिक होता है

Dil ka paigham jab email se mil jata hai
Male har chook pe female se mil jata hai

दिल का पैग़ाम जब ईमेल से मिल जाता है
मेल हर चूक पे फ़ीमेल से मिल जाता है

Ishq ka naam faqat aah o fughaaN tha pahle
Dakkhane mein ye aaraam kahaN tha pahle

इश्क़ का नाम फ़क़त आह-ओ-फ़ुग़ाँ था पहले
डाकखाने में ये आराम कहाँ था पहले

ID jabse mili hai mujhe ham-saee ki
Achhi lagti hai tawaalat shab e tanhaee ki

आई डी जबसे मिली है मुझे हम-साई की
अच्छी लगती है तवालत शब-ए-तन्हाई की

Net pe log jo nabbey se plus hote hain
Baithe rahte hain wo tas hote hain na mas hote hain

नेट पे लोग जो नब्बे से प्लस होते हैं
बैठे रहते हैं वो टस होते हैं न मस होते हैं

Facebook koocha e jaana se hai milti julti
Har haseena yahan mil jayegi hilti-julti

फेसबुक कूचा-ए-जानाँ से है मिलती जुलती
हर हसीना यहाँ मिल जायेगी हिलती-जुलती

Ye mobile kisi aashiq ne banaya hoga
Usko mahboob ke abba ne sataya hoga

ये मोबाइल किसी आशिक़ ने बनाया होगा
उसको महबूब के अब्बा ने सताया होगा

Text jab aashiq-e-barqii ka atak jata hai
Talib e shouq to sulii pe latak jata hai

टेक्स्ट जब आशिक़-ए-बर्क़ी का अटक जाता है
तालिब-ए-शौक़ तो सूली पे चढ़ जाता है

Online tere aashiq ka yahi tour sahi
Tu nahi aur sahi aur nahi aur sahi

ऑनलाइन तेरे आशिक़ का यही तौर सही
तू नहीं और सही और नहीं और सही

Khalid Irfan



अर्ज मेरी एे खुदा क्या सुन सकेगा तू कभी
आसमां को बस इसी इक आस में तकते रहे
madhu..
   
Reply With Quote