View Single Post
करो ना मत करोना
Old
  (#1)
parveen komal
devil ! forgive me
parveen komal is a splendid one to beholdparveen komal is a splendid one to beholdparveen komal is a splendid one to beholdparveen komal is a splendid one to beholdparveen komal is a splendid one to beholdparveen komal is a splendid one to beholdparveen komal is a splendid one to beholdparveen komal is a splendid one to behold
 
parveen komal's Avatar
 
Offline
Posts: 929
Join Date: Jul 2010
Location: MUMBAI PATIALA
Rep Power: 21
Talking करो ना मत करोना - 4th April 2021, 01:46 AM

तेरे भेजे हुए कागज के फूलों से भी
आती थी गुलाब की खुशबू....😋
तेरा अब भी याद है प्यार से कहना
अजी प्लीज करो ना 💑

मेरे भेजे में आज भी टनटना रही है
तेरी नटखट वाणी.......🤗
तेरा मुझे अंगूरी आंखों से छलकते प्यार की चाशनी से लबरेज़ करके ठनकती
आवाज में कहना.....अजी करो ना

तेरा चहकती चिड़िया की तरह गुनगुनाना, बुलबुल की तरह फुदकना आज भी याद है मुझे ......😍
तेरा मुझे इठलाकर कहना प्लीज ...सब्सक्राइब और लाइक ..... करो ना

तेरा मेरी परांठी से अचार प्याज निकाल के खा जाना...मुझे लगता था बुरा😠

जब मैं इस खुंदक में....तेरी दवात से अपनी कानी से डोबा चुराता था तो तू कहती थी.... प्लीज... मत करो ना💃

बोरी घर से मैं लाता था...बैठ तू जाती थी...
तेरी स्याही कच्चड़ मेरी स्याही पक्कड़ कहके मुझे डराती थी...😳

जब मैं ब्लेड से कलम घड़ता था तो तू... अपनी बटन जैसी आँखें मटका के कहती थी...एक कलम मेरे लिए भी... करो ना 👫

कभी कभी मैं फट्टी पोच कर.....सूरजा सूरजा फट्टी सुका नहीं सुकाउंदा गंगा जा.... कहता था और तेरी भी फट्टी पोच दिया करता था 🤓

बदले में मुझे मिलता था तेरी इमली की पुड़िया से एक तीखा नमक मिर्च वाला खट्टा बीज....
इमली के दागों से लबरेज रहती थी तेरी वर्दी की कमीज....😊

तू मुझे देती थी पीठ पे धप्पा और मैं तेरी लाल परांदे वाली काली चोटी पकड़ के... तुझे लाटू की तरह देता था घुमा🎂
और तुम गुस्से से गाजर की तरह लाल होकर कहती थी ... दुष्ट मत करो ना 🥕

आज हालात बदल गए हैं ,
अब तू प्लस टू में है और मैँ ..........
फेल होकर दसवीं में धक्के खा रहा हूँ 🕵️

चाहकर भी तेरे पास नहीं आ पा रहा हूँ
क्योंकि अब स्कूल का माहौल खराब है
मेरी नाक के आगे तेरा भेजा हुआ असली गुलाब है🌹

तेरे असली गुलाब से पता नहीं क्यों महक नहीं आ रही....
पत्तियां चबाकर देखी हैं स्वाद भी नहीं आया🥀
वो भी क्या जमाना था जब तेरे भेजे... कागज के फूल भी महकते थे
अब ये जमाना है...ना महक है ना स्वाद है
ज़िन्दगी का हर लुत्फ बर्बाद है 👽

तब बार बार तुम कहती थी... करो ना...करो ना
जानू अब समझ मे आया है क्यों कहती थी तुम....... करोना🙄 करोना🙄










:d


07666027379,09041116001,09876442643,
09417142513,09914097007,09625494246
Mail: parveenkomal@parveenkomal.com
www.parveenkomal.com/blog
{ BURA NA SUNENGE BURA NA DEKHENGE BURA NA BOLENGE
ACHHA LIKHENGE,KOI BURA KAHEGA TO KHUD KO TATOLENGE }


Wohi rizq deta jahaan ko , wohi zaat sab se azeem hai
Meri muflisi pe na hans ke wo , tera taaj sar se giraa na de
}QadeerToopchi{
  Send a message via Yahoo to parveen komal Send a message via MSN to parveen komal Send a message via Skype™ to parveen komal 
Reply With Quote