Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Shayri > Ghazal Section

Reply
 
Thread Tools Rate Thread Display Modes
मेरी आदत ही नही
Old
  (#1)
MUKESH PANDEY
Registered User
MUKESH PANDEY is on a distinguished road
 
Offline
Posts: 10
Join Date: Mar 2016
Location: AHMEDABAD
Rep Power: 0
मेरी आदत ही नही - 10th May 2016, 03:22 PM

शराफत से मिलो तो कमजोर समझते हैं लोग ,
किसी को सताने की ,मेरी आदत ही नही।


नजरें मिलाके देखो तो, भड़कते हैं लोग,
तिरछी निगाहें डालने की, मेरी आदत ही नही।


सच्चाई से जंग लड़ो तो दगा करते हैं लोग,
पीछे से वार करने की, मेरी आदत ही नही।


धर्म की सच्चाई को समझते नही लोग,
झूठी अंधश्रध्दा की, मेरी आदत ही नही।


ज्ञान की बाते करो तो टालते हैं लोग,
व्यर्थ की बातें करने की, मेरी आदत ही नही।


मेरे हर एक काम में विघ्न डालते हैं लोग,
मुश्किलों से भागने की, मेरी आदत ही नही।


गद्दारों और मक्कारों को सलाम करते हैं लोग,
नमक हरामी करने की, मेरी आदत ही नही।
By: MUKESH PANDEY
   
Reply With Quote
Old
  (#2)
Madhu 14
Moderator
Madhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud of
 
Madhu 14's Avatar
 
Offline
Posts: 5,176
Join Date: Jul 2014
Rep Power: 23
10th May 2016, 03:41 PM

Quote:
Originally Posted by MUKESH PANDEY View Post
शराफत से मिलो तो कमजोर समझते हैं लोग ,
किसी को सताने की ,मेरी आदत ही नही।


नजरें मिलाके देखो तो, भड़कते हैं लोग,
तिरछी निगाहें डालने की, मेरी आदत ही नही।


सच्चाई से जंग लड़ो तो दगा करते हैं लोग,
पीछे से वार करने की, मेरी आदत ही नही।


धर्म की सच्चाई को समझते नही लोग,
झूठी अंधश्रध्दा की, मेरी आदत ही नही।


ज्ञान की बाते करो तो टालते हैं लोग,
व्यर्थ की बातें करने की, मेरी आदत ही नही।


मेरे हर एक काम में विघ्न डालते हैं लोग,
मुश्किलों से भागने की, मेरी आदत ही नही।


गद्दारों और मक्कारों को सलाम करते हैं लोग,
नमक हरामी करने की, मेरी आदत ही नही।
By: MUKESH PANDEY


Very nice.........................



अर्ज मेरी एे खुदा क्या सुन सकेगा तू कभी
आसमां को बस इसी इक आस में तकते रहे
madhu..
   
Reply With Quote
Old
  (#3)
v/veena
Registered User
v/veena is a jewel in the roughv/veena is a jewel in the roughv/veena is a jewel in the roughv/veena is a jewel in the rough
 
Offline
Posts: 65
Join Date: Jul 2010
Location: india
Rep Power: 12
10th May 2016, 11:35 PM

झूठ का बाना लगे प्यारा,सत्य पर इठलाना मुझे पसंद नहीं
आदतें अच्छी तुम्हारी ,छवि बिगाडे मेरी मुझे पसंद नहीं
इसलिए तुम पसंद नहीं ,तुम पसंद नहीं
   
Reply With Quote
Old
  (#4)
MUKESH PANDEY
Registered User
MUKESH PANDEY is on a distinguished road
 
Offline
Posts: 10
Join Date: Mar 2016
Location: AHMEDABAD
Rep Power: 0
11th May 2016, 04:01 PM

Quote:
Originally Posted by Madhu 14 View Post
Very nice.........................
Thanks Madhuji. i will publish some new poetry very soon,you can enjoy them also.
   
Reply With Quote
Reply

Tags
adat hi nahi, gazal, mukesh, pandey

Thread Tools
Display Modes Rate This Thread
Rate This Thread:

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump



Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2018, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com