Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Shayri > Aapki Shayri

Reply
 
Thread Tools Rate Thread Display Modes
आ जिंदगी मैं तुझसे ये वादा ले लू...
Old
  (#1)
solankialpesh
Aash
solankialpesh will become famous soon enough
 
Offline
Posts: 18
Join Date: Mar 2013
Rep Power: 0
आ जिंदगी मैं तुझसे ये वादा ले लू... - 26th November 2016, 04:57 PM

आ जिंदगी मैं तुझसे ये वादा ले लू,
तु भी मुझसे वफ़ा करेगी जितनी मैं तुझसे वफ़ा करू,
रास्ते पे बिछाये हुए हर कांटे पे मैं चल जाऊंगा,
तु भी हिम्मत ना हारेगी, कभी जो मैं बिच में होंसला हारू ...

आसमान की बुलंदियों को छूना है,
जरुरत पड़े तो जलती आग में सुलगना है,
आशाओं का सुरज डुब जाये तो रुकना नहीं है,
उम्मीदों की नयी सुबह में फिर से उठना है,
राहों के हर मोड़ पे मैं खुद को संभालता जाऊंगा,
तु भी डगमगा ना जायेगी, कभी जो मैं गिर जाऊँ ...

दिल की ख्वाहिशों में नये नये रंग है,
करके तो देखे कैसी रंगीनियाँ होती है,
मंज़िल चाहे कितनी भी मुश्किलों से घिरी हो,
कोशिश करके देखे फिर क्यूँ ना हांसिल होती है,
दरिया के उठते हुए भँवर में मैं तैरता जाऊंगा,
तु भी डुब जायेगी, कभी जो मैं थक जाऊँ ...
   
Reply With Quote
Old
  (#2)
Madhu 14
Moderator
Madhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud of
 
Madhu 14's Avatar
 
Offline
Posts: 5,186
Join Date: Jul 2014
Rep Power: 24
28th November 2016, 03:22 PM

Quote:
Originally Posted by solankialpesh View Post
आ जिंदगी मैं तुझसे ये वादा ले लू,
तु भी मुझसे वफ़ा करेगी जितनी मैं तुझसे वफ़ा करू,
रास्ते पे बिछाये हुए हर कांटे पे मैं चल जाऊंगा,
तु भी हिम्मत ना हारेगी, कभी जो मैं बिच में होंसला हारू ...

आसमान की बुलंदियों को छूना है,
जरुरत पड़े तो जलती आग में सुलगना है,
आशाओं का सुरज डुब जाये तो रुकना नहीं है,
उम्मीदों की नयी सुबह में फिर से उठना है,
राहों के हर मोड़ पे मैं खुद को संभालता जाऊंगा,
तु भी डगमगा ना जायेगी, कभी जो मैं गिर जाऊँ ...

दिल की ख्वाहिशों में नये नये रंग है,
करके तो देखे कैसी रंगीनियाँ होती है,
मंज़िल चाहे कितनी भी मुश्किलों से घिरी हो,
कोशिश करके देखे फिर क्यूँ ना हांसिल होती है,
दरिया के उठते हुए भँवर में मैं तैरता जाऊंगा,
तु भी डुब जायेगी, कभी जो मैं थक जाऊँ ...
Aapki ye ashavadi kavita bahot achchi rahi solanki ji .

Likhte rahein..
Aate rahein..



अर्ज मेरी एे खुदा क्या सुन सकेगा तू कभी
आसमां को बस इसी इक आस में तकते रहे
madhu..
   
Reply With Quote
Old
  (#3)
sameer'shaad'
~$uper M0der@tor~
sameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.comsameer'shaad' is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sameer'shaad''s Avatar
 
Offline
Posts: 8,400
Join Date: Feb 2006
Rep Power: 57
29th November 2016, 09:05 PM

Quote:
Originally Posted by solankialpesh View Post

दिल की ख्वाहिशों में नये नये रंग है,
करके तो देखे कैसी रंगीनियाँ होती है,
मंज़िल चाहे कितनी भी मुश्किलों से घिरी हो,
कोशिश करके देखे फिर क्यूँ ना हांसिल होती है,
दरिया के उठते हुए भँवर में मैं तैरता जाऊंगा,
तु भी डुब जायेगी, कभी जो मैं थक जाऊँ ...
bahot hi shaandaar peshkash, quoted aashar bahot ache lage, likhte rahen


Shaad........


Shaad...
   
Reply With Quote
Old
  (#4)
Mujahid Ali
Registered User
Mujahid Ali will become famous soon enough
 
Offline
Posts: 387
Join Date: Feb 2016
Location: Mumbai
Rep Power: 5
30th November 2016, 07:38 AM

Quote:
Originally Posted by solankialpesh View Post
आ जिंदगी मैं तुझसे ये वादा ले लू,
तु भी मुझसे वफ़ा करेगी जितनी मैं तुझसे वफ़ा करू,
रास्ते पे बिछाये हुए हर कांटे पे मैं चल जाऊंगा,
तु भी हिम्मत ना हारेगी, कभी जो मैं बिच में होंसला हारू ...

आसमान की बुलंदियों को छूना है,
जरुरत पड़े तो जलती आग में सुलगना है,
आशाओं का सुरज डुब जाये तो रुकना नहीं है,
उम्मीदों की नयी सुबह में फिर से उठना है,
राहों के हर मोड़ पे मैं खुद को संभालता जाऊंगा,
तु भी डगमगा ना जायेगी, कभी जो मैं गिर जाऊँ ...

दिल की ख्वाहिशों में नये नये रंग है,
करके तो देखे कैसी रंगीनियाँ होती है,
मंज़िल चाहे कितनी भी मुश्किलों से घिरी हो,
कोशिश करके देखे फिर क्यूँ ना हांसिल होती है,
दरिया के उठते हुए भँवर में मैं तैरता जाऊंगा,
तु भी डुब जायेगी, कभी जो मैं थक जाऊँ ...

Bohat hi aala tareen nazm likha hai aapne solanki ji

Khaaksaar ki daad qubool farmaiye

Yuhi likhte rahiye

Dua ki darkhuwasth


Kya ishaara karey ye hawaaiye
Gaur se sun zara tu sadaaiye

Khushk pattey bhi kehte bohat kuch
Shabnami phool jo keh na paaiye
   
Reply With Quote
Old
  (#5)
Qasid
Super Mod
Qasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant future
 
Qasid's Avatar
 
Offline
Posts: 3,883
Join Date: Aug 2001
Location: Mumbai
Rep Power: 41
30th November 2016, 09:59 AM

Quote:
Originally Posted by solankialpesh View Post
आ जिंदगी मैं तुझसे ये वादा ले लू,
तु भी मुझसे वफ़ा करेगी जितनी मैं तुझसे वफ़ा करू,
रास्ते पे बिछाये हुए हर कांटे पे मैं चल जाऊंगा,
तु भी हिम्मत ना हारेगी, कभी जो मैं बिच में होंसला हारू ...

आसमान की बुलंदियों को छूना है,
जरुरत पड़े तो जलती आग में सुलगना है,
आशाओं का सुरज डुब जाये तो रुकना नहीं है,
उम्मीदों की नयी सुबह में फिर से उठना है,
राहों के हर मोड़ पे मैं खुद को संभालता जाऊंगा,
तु भी डगमगा ना जायेगी, कभी जो मैं गिर जाऊँ ...

दिल की ख्वाहिशों में नये नये रंग है,
करके तो देखे कैसी रंगीनियाँ होती है,
मंज़िल चाहे कितनी भी मुश्किलों से घिरी हो,
कोशिश करके देखे फिर क्यूँ ना हांसिल होती है,
दरिया के उठते हुए भँवर में मैं तैरता जाऊंगा,
तु भी डुब जायेगी, कभी जो मैं थक जाऊँ ...
Bahut khoob daad qubool farmiyegaa



Qasid


___________________________________________

नाम-ए-वफ़ा की जफ़ा बताएं
क्या है ज़हन में क्या बोल जाएँ

रफ़्तार-ए-दिल अब थम सी गयी है
'क़ासिद' पर अब है टिकी निगाहें
  Send a message via Yahoo to Qasid Send a message via AIM to Qasid  
Reply With Quote
Reply

Thread Tools
Display Modes Rate This Thread
Rate This Thread:

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump



Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2020, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com