Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > English/Hindi/Other Languages Poetry > Hindi Kavitayen

Reply
 
Thread Tools Rate Thread Display Modes
एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ
Old
  (#1)
@kaash
Registered User
@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold
 
Offline
Posts: 249
Join Date: Dec 2010
Rep Power: 16
एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ - 9th January 2011, 03:36 PM


आओ आजादी की राह पकडें
आज़ाद रहें सबको आज़ाद रखें

कब तक गुलामी में सिसकते रहोगे
परिंदों से पिंजडों में रहते रहोगे
आओ आज़ाद हम आज ख़ुद को करते हैं
बेहतर आजादी की राह पकड़ते हैं

आओ हम आखों में छाये गैर पने को मिटायें
एक बेहतर आजादी की राह हम ख़ुद को दिखाएँ

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ

वो हमला तुमने ही तो किया था कभी ख़ुद पर
अब खुदा के लिए आजादी के लिए न देखो किसी पर

वो जज़्बात जो सबके लिए बने हैं आओ उन्हें बाधाएं
चंद लोग जो कर सकते हैं आओ हम भी कर दिखाएँ

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ


हटा दो दीवारें जात पात की अपने मन से
हटा दो बनावट का ये आवरण तुम अपने तन से
खुदा के दी लम्हों का सभी आनंद उठाएं
एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ

बनो ऐसा की आसमा भी तुम पर फक्र रखे
आओ ग़म के अंधियारे में हर सु चमके
बचपन की मासूमियत देखो कहीं खो न जाए

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ

नाकामयाबी तो कामयाबी की शुरुआत है
खुदा सब देखता है बस इतनी सी बात है
आओ खुदा में है विश्वास खुदा को बताएं

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ


तुम ही मंजिल तुम ही राही तुम ही सफर हो सफर के
क्यूँ ढूंढते हो आसरा तुम ही आसरा हो सबके
वर्तमान को उज्जवल कर कल की राह बनायें

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ


तुम दुःख सुख को अपने ऊपर हावी ना होने दो
किसी का दिल न दुखों कोई दुखाये उसे जाने दो
छोटी बातों को रिश्तों के दरमियान न हम लायें

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ


Quality is not an act,it is a habit.
   
Reply With Quote
Old
  (#2)
rajinderseep
Registered User
rajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud ofrajinderseep has much to be proud of
 
Offline
Posts: 740
Join Date: Oct 2009
Location: new york U.S.A.
Rep Power: 22
11th January 2011, 08:57 AM

originally posted by akaash




आओ आजादी की राह पकडें
आज़ाद रहें सबको आज़ाद रखें

कब तक गुलामी में सिसकते रहोगे
परिंदों से पिंजडों में रहते रहोगे
आओ आज़ाद हम आज ख़ुद को करते हैं
बेहतर आजादी की राह पकड़ते हैं

आओ हम आखों में छाये गैर पने को मिटायें
एक बेहतर आजादी की राह हम ख़ुद को दिखाएँ

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ

वो हमला तुमने ही तो किया था कभी ख़ुद पर
अब खुदा के लिए आजादी के लिए न देखो किसी पर

वो जज़्बात जो सबके लिए बने हैं आओ उन्हें बाधाएं
चंद लोग जो कर सकते हैं आओ हम भी कर दिखाएँ

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ


हटा दो दीवारें जात पात की अपने मन से
हटा दो बनावट का ये आवरण तुम अपने तन से
खुदा के दी लम्हों का सभी आनंद उठाएं
एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ

बनो ऐसा की आसमा भी तुम पर फक्र रखे
आओ ग़म के अंधियारे में हर सु चमके
बचपन की मासूमियत देखो कहीं खो न जाए

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ

नाकामयाबी तो कामयाबी की शुरुआत है
खुदा सब देखता है बस इतनी सी बात है
आओ खुदा में है विश्वास खुदा को बताएं

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ


तुम ही मंजिल तुम ही राही तुम ही सफर हो सफर के
क्यूँ ढूंढते हो आसरा तुम ही आसरा हो सबके
वर्तमान को उज्जवल कर कल की राह बनायें

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ


तुम दुःख सुख को अपने ऊपर हावी ना होने दो
किसी का दिल न दुखों कोई दुखाये उसे जाने दो
छोटी बातों को रिश्तों के दरमियान न हम लायें

एक बेहतर आजादी की राह ख़ुद को दिखाएँ

well written.
rajinderseep
   
Reply With Quote
Old
  (#3)
@kaash
Registered User
@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold@kaash is a splendid one to behold
 
Offline
Posts: 249
Join Date: Dec 2010
Rep Power: 16
9th May 2011, 06:17 PM

shukriya Rajinder ji,thanks a lot


Quality is not an act,it is a habit.
   
Reply With Quote
Old
  (#4)
mittal_pali
Webeater
mittal_pali is a splendid one to beholdmittal_pali is a splendid one to beholdmittal_pali is a splendid one to beholdmittal_pali is a splendid one to beholdmittal_pali is a splendid one to beholdmittal_pali is a splendid one to behold
 
mittal_pali's Avatar
 
Offline
Posts: 708
Join Date: Jun 2010
Location: Bathinda-Punjab-India
Rep Power: 14
17th May 2011, 08:34 PM

very nice sharing...........................


Pali Mittal
   
Reply With Quote
Old
  (#5)
ajay nidaan
nida
ajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud ofajay nidaan has much to be proud of
 
ajay nidaan's Avatar
 
Offline
Posts: 1,824
Join Date: Aug 2009
Location: Vaishali Nagar,Bhilai ,(Deep Vision & Analysis Thinkings then way )
Rep Power: 21
Love 20th May 2011, 09:22 AM

Hi

Bahut Khoob likha hai aapne sir ji wakaai me ek raah ki talash jaruri hai.very nice.


Ajay Nidaan (09630819356)
http://www.anidaan.@gmail.com
All right reserved with Poet@Ajay nidaan

Kisi ek chehare ki talash me bhatakti rahee zindagi
par mila nahi zindagi ko apni pahchaan ka chehara.

 Send a message via ICQ to ajay nidaan Send a message via Yahoo to ajay nidaan Send a message via Skype™ to ajay nidaan 
Reply With Quote
Reply

Thread Tools
Display Modes Rate This Thread
Rate This Thread:

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump



Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com