Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > English/Hindi/Other Languages Poetry > Punjabi Poetry

Reply
 
Thread Tools Rate Thread Display Modes
"Amrita Pritam" de naam os de kalaam
Old
  (#1)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
Smile "Amrita Pritam" de naam os de kalaam - 11th December 2015, 04:58 PM

Amrita Pritam

(August 31, 1919 October 31, 2005)

Amrita Pritam was a Punjabi writer. She is considered the first prominent woman Punjabi poet, novelist, and essayist. When the former British India was partitioned into the independent states of India and Pakistan, she migrated to India in 1947.



Formative Years
Amrita Pritam was born in 1919 in Gujranwala, Punjab, now in Pakistan, the only child of a school teacher and a poet. Her father was a pracharak -- a preacher of the Sikh faith. Amrita's mother died when she was eleven. Soon after, she and her father moved to Lahore. Confronting adult responsibilities, she began to write at an early age. Her first collection was published when she was only sixteen years old, the year she married Pritam Singh, an editor to whom she was engaged in early childhood.



Partition and Her Poem - Aj Aakhaan Waris Shah Noo

Some one million Muslims, Hindus and Sikhs died from communal violence that followed the partition of India in 1947. Amrita Pritam then moved to New Delhi. Her anguish was expressed in her poem, "Aaj Aakhaan Waris Shah Noo", addressed to the Sufi poet Waris Shah, author of the tragic saga of Heer and Ranjah, the Punjabi national epic:
ਅਜ ਆਖਾਂ ਵਾਰਸ ਸ਼ਾਹ ਨੂੰ ਕਿਤੋਂ ਕਬਰਾਂ ਵਿਚੋਂ ਬੋਲ।
ਤੇ ਅਜ ਕਿਤਾਬੇ ਇਸ਼ਕ ਦਾ ਕੋਈ ਅਗਲਾ ਵਰਕਾ ਫੋਲ।
ਇਕ ਰੋਈ ਸੀ ਧੀ ਪੰਜਾਬ ਦ ਤੂ ਲਿਖ ਲਿਖ ਮਾਰੇ ਵੈਣ
ਅਜ ਲਖਾਂ ਧੀਆਂ ਰੌਂਦੀਆਂ ਤੇਨੂ ਵਾਰਸਸ਼ਾਹ ਨੂੰ ਕਹਿਣ:
ਵੇ ਦਰਦਮਂ ਦਾਂ ਦਿਆ ਦਰਦੀਆ ਉਠ ਆਪਣਾ ਪੰਜਾਬ।
ਅਜ ਬੇਲੇ ਲਾਸ਼ਾਂ ਵਿਛੀਆਂ ਤੇ ਲਹੂ ਦੀ ਭਰੀ ਚਨਾਬ
ਕਿਸੇ ਨੇ ਪੰਜਾਂ ਪਾਣੀਆਂ ਵਿਚ ਦਿਤੀ ਜ਼ੀਹਰ ਰਲਾ
ਤੇ ਉਨਾਂ ਪਾਣੀਆਂ ਧਰਤ ਨੂੰ ਦਿਤਾ ਪਾਣੀ ਲਾ
ਇਸ ਜ਼ਰਖੇਜ਼ ਜ਼ਮੀਨ ਦੇ ਲ੝ੰ ਲ੝ੰ ਛ੝ਟਿਆ ਜ਼ੀਹਰ
ਗਿਠ ਗਿਠ ਚੜ੝ਰੀਆਂ ਲਾਲੀਆਂ ਛ੝ਟ ਛ੝ਟ ਚੜਿਆ ਕਹਿਰ
ਵਿਹ੝ ਵਲਿਸੀ ਵਾ ਫਿਰ ਵਣ ਵਣ ਵਗੀ ਜਾ
ੳਹਨੋ ਹਰ ਇਕ ਵਾਂਸ ਦੀ ਵੰਝਣੀ ਦਿਤੀ ਨਾਗ ਬਣਾ
ਪਹਿਲਾ ਡੰਗ ਮਦਾਰੀਆਂ ਮੰਤ੝ਰ ਗਝ ਗ੝ਆਚ
ਦੂਜੇ ਡੰਗ ਦੀ ਲਗ ਗਈ ਜਣੇ ਖਣੇ ਨੂੰ ਲਾਗ
ਲਾਗਾਂ ਕੀਲੇ ਲੋਕ-ਮੂੰਹ ਬਸ ਫਿਰ ਡੰਗ ਹੀ ਡੰਗ
ਪਲੌ ਪਲੀ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਨੀਲੇ ਪੈ ਗਝ ਅੰਗ।
ਗਲਿੳਂ ਟ੝ਟੇ ਗੀਤ ਫਿਰ ਤ੝ਰਕਲਿਉਂ ਟ੝ਟੀ ਤੰਦ
ਤ੝ਰਿੰਜਣੋਂ ਟ੝ਟੀਆੰ ਸਹੇਲੀਆਂ ਚਰਖੜੇ ਘੂਕਰ ਬੰਦ
ਸਣੇ ਸੇਜ ਦੇ ਬੇੜੀਆਂ ਲ੝ਡਣ ਦਿੀਆਂ ਰੋੜ੝ਰ
ਸਣੇ ਡਾਲੀਆਂ ਪੀਂਘ ਅਜ ਪਿਪਲਾਂ ਦਿਤੀ ਤੋੜ
ਜਿਥੇ ਵਜਦੀ ਸੀ ਫੂਕ ਪਿਆਰ ਦੀ ਵੇ ਉਹ ਵੰਝਲੀ ਗਈ ਗ੝ੳਾਚ
ਦੇ ਸਭ ਵੀਰ ਅਜ ਭ੝ਲ ਗਝ ਉਹਦੀ ਜਾਚ
ਧਰਤੀ ਤੇ ਲਹੂ ਵਸਿਆ ਕਬਰਾਂ ਪਈਆਂ ਚੋਣ
ਪਰੀਤ ਦੀਆਂ ਸ਼ਾਹਜ਼ਾਦੀਆਂ ਅਜ ਵਿਚ ਮਜ਼ਾਰਾਂ ਰੋਣ
ਅਜ ਮਭੇ ਕੈਦੋ ਬਣ ਗਝ ਹ੝ਸਨ ਇਸ਼ਕ ਦੇ ਚੋਰ
ਅਜ ਕਿਥੋੰ ਲਿਆਈਝ ਲਭ ਕੇ ਵਾਰਸ ਸ਼ਾਹ ਇਕ ਹੋਰ
ਅਜ ਆਖਾਂ ਵਾਰਸ ਸ਼ਾਹ ਨੂੰ ਕਿਤੋਂ ਕਬਰਾਂ ਵਿਚੋਂ ਬੋਲ।
ਤੇ ਅਜ ਕਿਤਾਬੇ ਇਸ਼ਕ ਦਾ ਕੋਈ ਅਗਲਾ ਵਰਕਾ ਫੋਲ।


aj aakhan Waris Shah nun, kiton kabraan vichchon bol,
te aj kitab-e-ishq daa koi agla varka phol

ik roi si dhi Punjab di, tun likh likh maare vaen,
aj lakhaan dhian rondian, tainun Waris Shah nun kaehn

uth dardmandaan dia dardia, uth takk apna Punjab
aj bele lashaan bichhiaan te lahu di bhari Chenab

kise panjan panian vichch ditti zehr ralaa
te unhaan paniian dharat nun ditta paani laa

is zarkhez zamin de lun lun phuttia zehr
gitth gitth charhiaan laalian fut fut charhiaa qehr

veh vallissi vha pher, van van vaggi jaa,
ohne har ik vans di vanjhali ditti naag banaa

pehlaa dang madaarian, mantar gaye guaach,
dooje dang di lagg gayi, jane khane nun laag

laagaan kile lok munh, bus phir dang hi dang,
palo pali Punjaab de, neele pae gaye ang

gale`on tutt`e geet phir, takaleon tuttii tand,
trinjanon tuttiaan saheliaan, charakhrre ghukar band

sane sej de beriaan, Luddan dittiaan rohr,
sane daliaan peengh aj, piplaan dittii tor

jitthe vajdi si phuuk pyaar di, ve oh vanjhali gayi guaach
Raanjhe de sab veer aj, bhul gaye uhadi jaach

dharti te lahoo varsiya, kabraan paiaan choan,
preet diaan shaahzaadiaan, aaj vichch mazaaraan roan

aj sabbhe Kaido` ban gaye, husn, ishq de chor
aj kitthon liaaiye labbh ke Waris Shah ik hor

aj aakhan Waris Shah nun, kiton kabraan vichchon bol,
te aj kitaab-e-ishq da, koi aglaa varka phol


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#2)
Qasid
Super Mod
Qasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant futureQasid has a brilliant future
 
Qasid's Avatar
 
Offline
Posts: 3,872
Join Date: Aug 2001
Location: Mumbai
Rep Power: 39
14th December 2015, 07:19 AM

Bahut khoob Di, Amrita Pritam nu kaun nahi jaanda te is mahaan hasti nu kise parichay di lod nahi, tusa fer ne saade saare'ya naal innandi jeevani di do chaar gaalan saajhiyaan kittian bada changa lageya....



Qasid


___________________________________________

नाम-ए-वफ़ा की जफ़ा बताएं
क्या है ज़हन में क्या बोल जाएँ

रफ़्तार-ए-दिल अब थम सी गयी है
'क़ासिद' पर अब है टिकी निगाहें
  Send a message via Yahoo to Qasid Send a message via AIM to Qasid  
Reply With Quote
Old
  (#3)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
14th December 2015, 11:56 AM

Personal life

In 1935, Amrita married Pritam Singh, son of a leading hosiery merchant of Lahore's Anarkali bazaar. In 1960, Amrita Pritam left her husband. She is also said to have an unrequited affection for poet Sahir Ludhianvi. The story of this love is depicted in her autobiography, Rasidi Ticket (Revenue Stamp). When another woman, singer Sudha Malhotra came into Sahir's life, Amrita found solace in the companionship of the renowned artist and writer Imroz. She spent the last forty years of her life with Imroz, who also designed most of her book covers and made her the subject of his several paintings. Their life together is also the subject of a book, Amrita Imroz: A Love Story.

She died in her sleep on 31 October 2005 at the age of 86 in New Delhi, after a long illness. She was survived by her partner Imroz, daughter Kandala, son Navraj Kwatra, daughter-in-law Alka, and her grandchildren, Taurus, Noor, Aman and Shilpi. Navraj Kwatra was killed in 2012.



Partition of British India

Some one million people, Muslims, Hindus and Sikhs died from communal violence that followed the partition of British India in 1947, and left Amrita Pritam a Punjabi refugee at age 28, when she left Lahore and moved to New Delhi. Subsequently in 1948, while she was pregnant with her son, and travelling from Dehradun to Delhi, she expressed anguish on a piece of paper as the poem, "Ajj akhaan Waris Shah nu" this poem was to later immortalise her and become the most poignant reminder of the horrors of Partition. The poem addressed to the Sufi poet Waris Shah, author of the tragic saga of Heer and Ranjah and with whom she shares her birthplace.

Amrita Pritam worked until 1961 in the Punjabi service of All India Radio, Delhi. After her divorce in 1960, her work became more clearly feminist. Many of her stories and poems drew on the unhappy experience of her marriage. A number of her works have been translated into English, French, Danish, Japanese, Mandarin and other languages from Punjabi and Urdu, including her autobiographical works Black Rose and Rasidi Ticket (Revenue Stamp).

The first of Amrita Pritam's books to be filmed was Dharti Sagar te Sippiyan, as ‘Kadambari’ (1965), followed by ‘Unah Di Kahani’, as Daaku (Dacoit, 1976), directed by Basu Bhattacharya. Her novel Pinjar (The Skeleton, 1970) narrates the story of partition riots along with the crisis of women who suffered during the times. It was made into an award winning Hindi movie by Chandra Prakash Dwivedi, because of its humanism: "Amritaji has portrayed the suffering of people of both the countries." Pinjar was shot in a border region of Rajasthan and in Punjab.

She edited "Nagmani", a monthly literary magazine in Punjabi for several years, which she ran together with Imroz, for 33 years; though after Partition she wrote prolifically in Hindi as well. Later in life, she turned to Osho and wrote introductions for several books of Osho, including Ek Onkar Satnam, and also started writing on spiritual themes and dreams, producing works like Kaal Chetna (Time Consciousness) and Agyat Ka Nimantran (Call of the Unknown). She had also published autobiographies, titled, Kala Gulab (Black Rose) (1968), Rasidi Ticket (The Revenue Stamp) (1976), and Aksharon kay Saayee (Shadows of Words).


Acclaim

Amrita is the first recipient of Punjab Rattan Award conferred upon her by Punjab Chief Minister Capt. Amarinder Singh. She is first woman recipient of the Sahitya Akademi Award in 1956 for Sunehadey (poetic diminutive of the word sunehe i,e.Messages), Amrita Pritam received the Bhartiya Jnanpith Award, India's highest literary award, in 1982 for Kagaj te Canvas (Paper and Canvas). She received the Padma Shri (1969) and Padma Vibhushan, India's second highest civilian award, and Sahitya Akademi Fellowship, India's highest literary award, also in 2004. She received D.Litt. honorary degrees, from many universities including, Delhi University (1973), Jabalpur University (1973) and Vishwa Bharati (1987)

She also received International Vaptsarov Award from the Republic of Bulgaria (1979) and Degree of Officer dens, Ordre des Arts et des Lettres (Officier) by the French Government (1987). She was nominated as a member of Rajya Sabha 1986–92. Towards the end of her life, she was awarded by Pakistan's Punjabi Academy, to which she had remarked, Bade dino baad mere maike ko meri yaad aayi.. (My motherland has remembered me after a long time); and also Punjabi poets of Pakistan, sent her a chaddar, from the tombs of Waris Shah, and fellow Sufi mystic poets Bulle Shah and Sultan Bahu.



Legacy


In 2007, an audio album titled, 'Amrita recited by Gulzar' was released by noted lyricist Gulzar, with poems of Amrita Pritam recited by him. A film on her life is also on the anvil.


Bibliography

In her career spanning over six decades, she penned 28 novels, 18 anthologies of prose, five short stories and 16 miscellaneous prose volumes.

Novel

Pinjar
Doctor Dev
Kore Kagaz, Unchas Din
Dharti, Sagar aur Seepian
Rang ka Patta
Dilli ki Galiyan
Terahwan Suraj
Yaatri
Jilavatan (1968)
Hardatt Ka Zindaginama


Autobiography

Rasidi Ticket (1976)
Shadows of Words (2004)
A Revenue Stamp


Short stories

Kahaniyan jo Kahaniyan Nahi
Kahaniyon ke Angan mein
Stench of Kerosene


Poetry anthologies

Amrit Lehran (Immortal Waves)(1936)
Jiunda Jiwan (The Exuberant Life) (1939)
Trel Dhote Phul (1942)
O Gitan Valia (1942)
Badlam De Laali (1943)
Sanjh de laali (1943)
Lok Peera (The People's Anguish) (1944)
Pathar Geetey (The Pebbles) (1946)
Punjab Di Aawaaz (1952)
Sunehade (Messages) (1955) – Sahitya Akademi Award
Ashoka Cheti (1957)
Kasturi (1957)
Nagmani (1964)
Ik Si Anita (1964)
Chak Nambar Chatti (1964)
Uninja Din (49 Days) (1979)
Kagaz Te Kanvas (1981)- Bhartiya Jnanpith
Chuni Huyee Kavitayen
ek baat


Literary journal

Nagmani


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 15th December 2015 at 03:35 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#4)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
14th December 2015, 11:58 AM

Quote:
Originally Posted by mast View Post
Bahut khoob Di, Amrita Pritam nu kaun nahi jaanda te is mahaan hasti nu kise parichay di lod nahi, tusa fer ne saade saare'ya naal innandi jeevani di do chaar gaalan saajhiyaan kittian bada changa lageya....
Mast bhai, aapne es thread ko pasand kiya aur saraha...dil se shukriya, bahut deir se soch rhi thi ki Amrita ji ko SDC par post karuN


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#5)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
14th December 2015, 03:34 PM

मुहब्बत में सभी शक्तियां होती है , पर एक बोलने की शक्ति नहीं होती।
_अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#6)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
14th December 2015, 03:35 PM

मैंने जब तेरी सेज पर पैर रखा था
मैं एक नहीं थी--- दो थी
एक समूची ब्याही
और एक समूची कुंवारी
तेरे भोग की खातिर ..
मुझे उस कुंवारी को कत्ल करना था
मैंने ,कत्ल किया था --
ये कत्ल
जो कानूनन ज़ायज होते हैं ,
सिर्फ उनकी जिल्लत
नाजायज होती है |
और मैंने उस जिल्लत का
जहर पिया था
फिर सुबह के वक़्त --
एक खून में भीगे हाथ देखे थे ,
हाथ धोये थे --
बिलकुल उसी तरह
ज्यूँ और गंदले अंग धोने थे ,
पर ज्यूँ ही मैं शीशे के सामने आई
वह सामने खड़ी थी
वही .जो मैंने कत्ल की थी
ओ खुदाया !
क्या सेज का अँधेरा बहुत गाढा था ?
मुझे किसे कत्ल करना था
और किसे कत्ल कर बैठी थी ..

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:41 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#7)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
14th December 2015, 03:58 PM

आरी मेरी ज़िन्दगी !
तू किसके लिए कातती है - मोह की पूनी......!!

- अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:41 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#8)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
15th December 2015, 11:33 AM

The Truth - Her Life was an Open Book

The greatest aspect of Amrita's life was the way she embraced truth. She gave a new meaning to the expression "my life is an open book." Whatever she experienced, she recorded in her poems and novels - her legendary love for Sahir Ludhianvi, the famous Urdu poet, included. So many of her anecdotes revolved around her love for this man. Like the time her son came to her and said, "People say that I am Sahir Uncle's son." Imagine the inner courage and conviction of a woman who could reply, " I wish you were Sahir Uncle's son."


The Confidante - Imroz

However, it was with artist Imroz that she chose to make a home in Delhi. It was a relationship of rare understanding, and the companionship lasted over four decades. So, with the black rose in hand Neeru found herself at the gate of K-25, Hauz Khas, an address that was for long the Mecca for Punjabi writers. For 33 years, Amrita and Imroz ran a remarkable and very popular literary journal Nagmani.
Once Neeru had gone to her with a bunch of orange poppies. Happy to see her, she asked to be pushed up to sit, and lit up a cigarette. With a mischievous smile, Amrita asked, "So Neeru! Any new love affair?" Imroz, who walked in with the tea, said, "Of course! She must be in love. The bright colour of the flowers is telling the story."

Once Dwivedi dropped by at Amrita's home and found her laughing with gay abandon. The reason for her mirth was a visit from a journalist who said she wanted to talk about the love in Amrita Pritam's life. Do you know what Pritam told her? She said, "I've had many loves in my life, which one do you want to talk about?" Imagine the scribe's audacity that she could dare declare she meant the "Muslim one." And all Amrita Pritam said in reply was, "Why don't you first find out the name of the 'Muslim one' and then I'd be too happy to talk about my love for him." She never shied away from telling the truth.

Amrita's relationship with Imroz was fascinating. A man, so much younger than her, with whom she lived in the heart of middle-class Delhi and her children lived in the same apartment complex but a floor below hers.

Yeh mein hoon - yeh tu hai, aur beech mein hai sapna
(This is me and that is you and in the chasm is the dream.)

Amrita has had many more detractors than her admirers. She came in for sharp criticism , specially for her relationship with Sahir. Imroz was a different matter, who followed her as a shadow, a confidante, a dedicated friend, a candid critic.


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Khushwant Singh ki Kalam se
Old
  (#9)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
Khushwant Singh ki Kalam se - 16th December 2015, 05:23 PM

Queen of Punjabi Literature

By KHUSHWANT SINGH
The Tribune, Nov. 12, 2005



I had known Amrita Pritam for more than 60 years and, besides her live-in gentleman companion and her children, been closer to her than anyone else. I was the first to translate some of her works into English, including her best-known novel Pinjar (The Skeleton) and selections of her verse published in the brochure released by Prime Minister P.V. Narasimha Rao when she was given the Jnanpith Award. However, when T.V. and radio channels asked me to pay tribute to her when she died on October 31, I firmly said no. Then I heard and read what others had to say about her. Patwant Singh on N.D.T.V., in his usual haw haw English, spoke about her steadfast adherence to political principles. As a matter of fact, Amrita never bothered about politics and hardly ever read newspapers. Obituaries in newspapers repeated the same things about her life and work loaded, as is their practice, with superlatives. No one dared to mention her human failings.

Amrita's father was a pracharak - a preacher of the Sikh faith from Gujranwala, where she was born. After the death of his wife, father and daughter moved to Lahore. Amrita grew into a pretty girl with almond-shaped eyes, fine features and a fair complexion. She was also petite, barely five feet tall. And precocious. She began composing poetry in her teens. Her earliest work was in praise of Sikh gurus and what they stood for. She was *****d for her work. Among her many admirers was Jagat Singh Kwatra, owner of the leading hosiery store in Anarkali Bazaar. He asked for her hand for his son Pritam Singh. The offer was readily accepted. On marriage, Amrita added her husband's name to her own and became Amrita Pritam. I met her a couple of times in Lahore with other Punjabi writers all of whom were infatuated by her, chief among them Mohan Singh Mahir, then acknowledged as the best among younger poets. He claimed his affection was reciprocated. Amrita assured me it was not.

I got closer to Amrita Pritam after 1947 when we migrated from Lahore to Delhi. She got a job in the Punjabi service of All India Radio. It was about that time she decided to make a clean break from her past. She persuaded her husband to divorce her leaving their son in her custody. She did not formally renounce Sikhism but cut off her hair and took to smoking heavily. It was also around this time she composed her poem Aaj Aakhaan Waris Shah Noo addressed to the Sufi poet Waris Shah, author of the most famous tragic Punjabi saga of Heer & Ranjah.

Utth dard-mandaan dey dardiyaa tak apna Punjab
Beyley laashaan vichhiyaan
Teh lahoo da bharya Chenab

(Sharer of stricken hearts,
Look at your Punjab,
Corpses are strewn in the field
Blood flows in the Chenab.)

With this memorable lament, Amrita Pritam shot into fame in the Punjabi speaking world, both Pakistani and Indian. She never looked back.

My first disappointment came when she won the Sahitya Akademi Award. She was a member of the selection panel. She cast the deciding vote in her own favour. I found it hard to digest but said nothing to her. When she was served with a warrant by an Amritsar Court for something she had written about Sikhism, I agreed to accompany her. Nothing came of it. When Krishna Sobti took her to court for stealing the title of her autobiography Zindaginamah, I appeared in the Delhi High Court as a defence witness. Other troubles came her way, I stood by her.

Amrita was not a highly educated woman, not exposed to good writing in languages other than Punjabi. Nor sophisticated enough to add new dimensions to her own. She was besotted by Bollywood and believed getting one of her novels or short stories accepted by a film-maker was the ultimate in success. All her stories and novels were sob stuff and uniformly second rate.

When I translated Pinjar, I gave half the share of royalties due to me to her on condition that she would tell me her life story and her love life. We had many sessions. She conceded she had been in love with Sahir Ludhianvi and no one else. He came over to Delhi to meet her. It came to nothing. I told her her love life could be written behind a postage stamp. She used it as a title of her autobiography Raseedee Ticket. About Imroz, the one who devoted most of his life to her, she had not much to say. (He is not Muslim as the name might indicate, but a clean-shaven Sikh.) He not only loved her, painted her eyes on doors and walls, designed book jackets for her but in the past few years of her life, when she was unable to move, looked after her to the last. He gave me a line drawing of Waris Shah, which I keep in my studio as an emblem of eternal love.


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#10)
meena chheda
Registered User
meena chheda is a splendid one to beholdmeena chheda is a splendid one to beholdmeena chheda is a splendid one to beholdmeena chheda is a splendid one to beholdmeena chheda is a splendid one to beholdmeena chheda is a splendid one to beholdmeena chheda is a splendid one to behold
 
meena chheda's Avatar
 
Offline
Posts: 5,436
Join Date: Dec 2002
Location: mumbai
Rep Power: 29
16th December 2015, 08:12 PM

Sunita

Aaj yaha achanak aa gayo aur tumhara yah thread dekha... Amritajee se mai Mumbai mai mili thi... woh wakt meri zindgi ka bahut hi kimti wakt raha hai...
   
Reply With Quote
Old
  (#11)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
16th December 2015, 08:53 PM

Quote:
Originally Posted by meena chheda View Post
Sunita

Aaj yaha achanak aa gayo aur tumhara yah thread dekha... Amritajee se mai Mumbai mai mili thi... woh wakt meri zindgi ka bahut hi kimti wakt raha hai...

dii...sachi, aap Amrita ji se milli hai bahut accha lga yeh jaan kar, dii...aap unse judi baate yahan hamse share kijiye...hame bahuttttttt accha lgega dii

regards


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#12)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
16th December 2015, 09:21 PM

उसके प्यार का अमृत पी लिया,
अब तू कुछ भी कर ले ख़ुदा..
मैं मर नहीं सकती
जो ज़िन्दगी तूने दी थी, वो तो,
मैं कब की उस पर वार चुकी,
अब जो जी रही हूँ, उसकी इनायत है,
ये बात मैं उसे भी कब की बता चुकी,
इससे मैं मुकर नहीं सकती
अब तू कुछ भी कर ले ख़ुदा,
मैं मर नहीं सकती ..
इक उम्र जी गयी अकेले जाने कैसे,
बस इक साँस थी जो आती-जाती थी,
और अब तुम हो, जो मेरे पास हो,
वर्ना तन्हाई, तन्हाई में साथ निभाती थी....
जिसका मैं ज़िक्र कर नहीं सकती
अब तू कुछ भी कर ले ख़ुदा,
मैं मर नहीं सकती .....

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:41 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#13)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
18th December 2015, 10:49 AM

चिंगारी तूने दे दी थी
यह दिल सदा जलता रहा
वक़्त कलम पकड़ कर
कोई हिसाब लिखता रहा

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:41 PM..
   
Reply With Quote
बात कुफ्र की, की हैं हमने
Old
  (#14)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
बात कुफ्र की, की हैं हमने - 18th December 2015, 10:51 AM

बात कुफ्र की, की हैं हमने


अम्बर की एक पाक सुराही
बादल का एक जाम उठाकर
घूंट चांदनी पी हैं हमने
बात कुफ्र की की हैं हमने

कैसे इसका क़र्ज़ चुकाये
मांग के अपनी मौत के हाथों
उम्र की चोली सी हैं हमने
बात कुफ्र की की हैं हमने

अपना इस में कुछ भी नहीं हैं
रोज़े या जलसे उसकी अमानत
उसको वही तो दी हैं हमने
बात कुफ्र की की हैं हमने

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#15)
Madhu 14
Moderator
Madhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud of
 
Madhu 14's Avatar
 
Offline
Posts: 5,141
Join Date: Jul 2014
Rep Power: 22
18th December 2015, 12:36 PM

Quote:
Originally Posted by sunita virender View Post
चिंगारी तूने दे दी थी
यह दिल सदा जलता रहा
वक़्त कलम पकड़ कर
कोई हिसाब लिखता रहा

-अमृता प्रीतम
waaah.....kya khoob kaha hai...

thanks for sharing di...



अर्ज मेरी एे खुदा क्या सुन सकेगा तू कभी
आसमां को बस इसी इक आस में तकते रहे
madhu..
   
Reply With Quote
Old
  (#16)
Madhu 14
Moderator
Madhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud ofMadhu 14 has much to be proud of
 
Madhu 14's Avatar
 
Offline
Posts: 5,141
Join Date: Jul 2014
Rep Power: 22
18th December 2015, 12:39 PM

Quote:
Originally Posted by sunita virender View Post
मैंने जब तेरी सेज पर पैर रखा था
मैं एक नहीं थी--- दो थी
एक समूची ब्याही
और एक समूची कुंवारी
तेरे भोग की खातिर ..
मुझे उस कुंवारी को कत्ल करना था
मैंने ,कत्ल किया था --
ये कत्ल
जो कानूनन ज़ायज होते हैं ,
सिर्फ उनकी जिल्लत
नाजायज होती है |
और मैंने उस जिल्लत का
जहर पिया था
फिर सुबह के वक़्त --
एक खून में भीगे हाथ देखे थे ,
हाथ धोये थे --
बिलकुल उसी तरह
ज्यूँ और गंदले अंग धोने थे ,
पर ज्यूँ ही मैं शीशे के सामने आई
वह सामने खड़ी थी
वही .जो मैंने कत्ल की थी
ओ खुदाया !
क्या सेज का अँधेरा बहुत गाढा था ?
मुझे किसे कत्ल करना था
और किसे कत्ल कर बैठी थी ..

-अमृता प्रीतम
speechless.......abhi poora thread to nahi padh payi main par is poem jko padh kar amrita ji ki shakhsiyat nazar aa rahi hai....kamaal ke ehsaas piroye hain...jinhe shabdon me dhalna sabke bas ki baat nahi hoti....

aapka shukriya di jo apki badaulat maine aaj inhe padha aur samjha.....

keep
sharing....

regards
madhu



अर्ज मेरी एे खुदा क्या सुन सकेगा तू कभी
आसमां को बस इसी इक आस में तकते रहे
madhu..
   
Reply With Quote
'शाह की कंजरी'
Old
  (#17)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
'शाह की कंजरी' - 18th December 2015, 02:34 PM

Amrita Pritam ji ki likhi kahani "Shah ki Kanjri" aaj aap sabke saamne lekar aa rhi hu...umeed hai aap sab ko pasand aayegi

'शाह की कंजरी'


अमृता प्रीतम की यह कहानी तवायफ संस्कृति कुछ सबसे अच्छी कहानियों में है. इसकी नायिका लाहौर के हीरा मंडी की है. समाज पर तवायफों का क्या असर होता था, उनका क्या जलवा होता था- कहानी इसको बड़े अच्छे तरीके से सामने लाती है-

=======================================

उसे अब नीलम कोई नहीं कहता था। सब शाह की कंजरीकहते थे।

नीलम को लाहौर हीरामंडी के एक चौबारे में जवानी चढ़ी थी। और वहां ही एक रियासती सरदार के हाथों पूरे पांच हजार में उसकी नथ उतरी थी। और वहां ही उसके हुस्न ने आग जला कर सारा शहर झुलसा दिया था। पर फिर वह एक दिन हीरा मंडी का रास्ता चौबारा छोड़ कर शहर के सबसे बड़े होटल फ्लैटी में आ गयी थी।

वही शहर था, पर सारा शहर जैसे रातों रात उसका नाम भूल गया हो, सबके मुंह से सुनायी देता था -शाह की कंजरी।

गजब का गाती थी। कोई गाने वाली उसकी तरह मिर्जे की सद नहीं लगा सकती थी। इसलिये चाहे लोग उसका नाम भूल गये थे पर उसकी आवाज नहीं भूल सके। शहर में जिसके घर भी तवे वाला बाजा था, वह उसके भरे हुए तवे जरूर खरीदता था। पर सब घरों में तवे की फरमायिश के वक्त हर कोई यह जरूर कहता था "आज शाह की कंजरी वाला तवा जरूर सुनना है।"

लुकी छिपी बात नहीं थी। शाह के घर वालों को भी पता था। सिर्फ पता ही नहीं था, उनके लिये बात भी पुरानी हो चुकी थी। शाह का बड़ा लड़का जो अब ब्याहने लायक था, जब गोद में था तो सेठानी ने जहर खाके मरने की धमकी दी थी,पर शाह ने उसके गले में मोतियों का हार पहना कर उससे कहा था, "शाहनिये! वह तेरे घर की बरकत है। मेरी आंख जोहरी की आंख है, तूने सुना हुआ नहीं है कि नीलम ऐसी चीज होता है, जो लाखों को खाक कर देता है और खाक को लाख बनाता है। जिसे उलटा पड़ जाये, उसके लाख के खाक बना देता है। और जिसे सीधा पड़ जाये उसे खाक से लाख बना देता है। वह भी नीलम है, हमारी राशि से मिल गया है। जिस दिन से साथ बना है, मैं मिट्टी में हाथ डालूं तो सोना हो जाती है।

"पर वही एक दिन घर उजाड़ देगी, लाखों को खाक कर देगी," शाहनी ने छाती की साल सहकर उसी तरफ से दलील दी थी,जिस तरफ से शाह ने बत चलायी थी।

" मैं तो बल्कि डरता हूं कि इन कंजरियों का क्या भरोसा, कल किसी और ने सब्ज़बाग दिखाये, और जो वह हाथों से निकल गयी, तो लाख से खाक बन जाना है।" शाह ने फिर अपनी दलील दी थी।

और शाहनी के पास और दलील नहीं रह गयी थी। सिर्फ वक़्त के पास रह गयी थी, और वक़्त चुप था, कई बरसों से चुप था। शाह सचमुच जितने रुपये नीलम पर बहाता, उससे कई गुणा ज्यादा पता नहीं कहां कहां से बह कर उसके घर आ जाते थे। पहले उसकी छोटी सी दुकान शहर के छोटे से बाजार में होती थी, पर अब सबसे बड़े बाजार में, लोहे के जंगले वाली, सबसे बड़ी दुकान उसकी थी। घर की जगह पूरा महल्ला ही उसका था, जिसमें बड़े खाते पीते किरायेदार थे। और जिसमें तहखाने वाले घर को शाहनी एक दिन के लिये भी अकेला नहीं छोड़ती थी।

बहुत बरस हुए, शाहनी ने एक दिन मोहरों वाले ट्रंक को ताला लगाते हुए शाह से कहा था, " उसे चाहे होटल में रखो और चाहे उसे ताजमहल बनवा दो, पर बाहर की बला बाहर ही रखो, उसे मेरे घर ना लाना। मैं उसके माथे नहीं लगूंगी।"

और सचमुच शाहनी ने अभी तक उसका मूंह नहीं देखा था। जब उसने यह बात कही थी, उसका बड़ा लड़का स्कूल में पढ़ता था, और अब वह ब्याहने लायक हो गया था, पर शाहनी ने ना उसके गाने वाले तवे घर में आने दिये, और ना घर में किसी को उसका नाम लेने दिया था।

वैसे उसके बेटे ने दुकान दुकान पर उसके गाने सुन रखे थे,और जने जने से सुन रखा था- "शाह की कंजरी। "

बड़े लड़के का ब्याह था। घर पर चार महीने से दर्जी बैठे हुए थे, कोई सूटों पर सलमा काढ़ रहा था, कोई तिल्ला, कोई किनारी, और कोई दुप्पटे पर सितारे जड़ रहा था। शाहनी के हाथ भरे हुए थे - रुपयों की थैली निकालती, खोलती, फिर और थैली भरने के लिये तहखाने में चली जाती।

शाह के यार दोस्तों ने शाह की दोस्ती का वास्ता डाला कि लड़के के ब्याह पर कंजरी जरूर गंवानी है। वैसे बात उन्होंने ने बड़े तरीके से कही थी ताकी शाह कभी बल ना खा जाये, "वैसे तो शाहजी कॊ बहुतेरी गाने नाचनेवाली हैं, जिसे मरजी हो बुलाओ। पर यहां मल्लिकाये तर्रन्नुम जरूर आये, चाहे मिरजे़ की एक ही ’सद’ लगा जाये।"

फ्लैटी होटल आम होटलों जैसा नहीं था। वहां ज्यादातर अंग्रेज़ लोग ही आते और ठहरते थे। उसमें अकेले अकेले कमरे भी थे, पर बड़े बड़े तीन कमरों के सेट भी। ऐसे ही एक सेट में नीलम रहती थी। और शाह ने सोचा - दोस्तों यारों का दिल खुश करने के लिये वह एक दिन नीलम के यहां एक रात की महफिल रख लेगा।

"यह तो चौबारे पर जाने वाली बात हुई," एक ने उज्र किया तो सारे बोल पड़े, " नहीं, शाह जी! वह तो सिर्फ तुम्हारा ही हक बनता है। पहले कभी इतने बरस हमने कुछ कहा है? उस जगह का नाम भी नहीं लिया। वह जगह तुम्हारी अमानत है। हमें तो भतीजे के ब्याह की खुशी मनानी है, उसे खानदानी घरानों की तरह अपने घर बुलाओ, हमारी भाभी के घर।"

बात शाह के मन भा गयी। इस लिये कि वह दोस्तों यारों को नीलम की राह दिखाना नहीं चाहता था (चाहे उसके कानों में भनक पड़ती रहती थी कि उसकी गैरहाजरी में कोई कोई अमीरजादा नीलम के पास आने लगा था।) - दूसरे इस लिये भी कि वह चाहता था, नीलम एक बार उसके घर आकर उसके घर की तड़क भड़क देख जाये। पर वह शाहनी से डरता था, दोस्तों को हामी ना भार सका।

दोस्तों यारों में से दो ने राह निकाली और शाहनी के पास जाकर कहने लगे, " भाभी तुम लड़के की शादी के गीत नहीं गवांओगी? हम तो सारी खुशियां मनायेंगे। शाह ने सलाह की है कि एक रात यारों की महफिल नीलम की तरफ हो जाये। बात तो ठीक है पर हजारों उजड़ जायेंगे। आखिर घर तो तुम्हारा है, पहले उस कंजरी को थोड़ा खिलाया है? तुम सयानी बनो, उसे गाने बजाने के लिये एक दिन यहां बुला लो। लड़के के ब्याह की खुशी भी हो जायेगी और रुपया उजड़ने से बच जायेगा।"

शाहनी पहले तो भरी भरायी बोली, " मैं उस कंजरी के माथे नहीं लगना चाहती," पर जब दूसरों ने बड़े धीरज से कहा, "यहां तो भाभी तुम्हारा राज है, वह बांदी बन कर आयेगी,तुम्हारे हुक्म में बधीं हुई, तुम्हारे बेटे की खुशी मनाने के लिये। हेठी तो उसकी है, तुम्हारी काहे की? जैसे कमीन कुमने आये,डोम मरासी, तैसी वह।"

बात शाहनी के मन भा गयी। वैसे भी कभी सोते बैठते उसे ख्याल आता था- एक बार देखूं तो सही कैसी है?

उसने उसे कभी देखा नहीं था पर कल्पना जरूर थी - चाहे डर कर, सहम कर, चहे एक नफरत से। और शहर में से गुजरते हुए, अगर किसी कंजरी को टांगे में बैठते देखती तो ना सोचते हुए ही सोच जाती - क्या पता, वही हो?

"चलो एक बार मैं भी देख लूं," वह मन में घुल सी गयी, " जो उसको मेरा बिगाड़ना था, बिगाड़ लिया, अब और उसे क्या कर लेना है! एक बार चन्दरा को देख तो लूं।"

शाहनी ने हामी भर दी, पर एक शर्त रखी - " यहां ना शराब उड़ेगी, ना कबाब। भले घरों में जिस तरह गीत गाये जाते हैं,उसी तरह गीत करवाउंगी। तुम मर्द मानस भी बैठ जाना। वह आये और सीधी तरह गा कर चली जाये। मैं वही चार बतासे उसकी झोली में भी डाल दूंगी जो ओर लड़के लड़कियों को दूंगी, जो बन्ने, सहरे गायेंगी।"

"यही तो भाभी हम कहते हैं।" शाह के दोस्तों नें फूंक दी, "तुम्हारी समझदारी से ही तो घर बना है, नहीं तो क्या खबर क्या हो गुजरना था।"

वह आयी। शाहनी ने खुद अपनी बग्गी भेजी थी। घर मेहेमानों से भरा हुआ था। बड़े कमरे में सफेद चादरें बिछा कर, बीच में ढोलक रखी हुई थी। घर की औरतों नें बन्ने सेहरे गाने शुरू कर रखे थे....।

बग्गी दरवाजे पर आ रुकी, तो कुछ उतावली औरतें दौड़ कर खिड़की की एक तरफ चली गयीं और कुछ सीढ़ियों की तरफ....।

"अरी, बदसगुनी क्यों करती हो, सहरा बीच में ही छोड़ दिया।" शाहनी ने डांट सी दी। पर उसकी आवाज़ खुद ही धीमी सी लगी। जैसे उसके दिल पर एक धमक सी हुयी हो....।

वह सीढ़ियां चढ़ कर दरवाजे तक आ गयी थी। शाहनी ने अपनी गुलाबी साड़ी का पल्ला संवारा, जैसे सामने देखने के लिये वह साड़ी के शगुन वाले रंग का सहारा ले रही हो...।

सामने उसने हरे रंग का बांकड़ीवाला गरारा पहना हुआ था,गले में लाल रंग की कमीज थी और सिर से पैर तक ढलकी हुयी हरे रेशम की चुनरी। एक झिलमिल सी हुयी। शाहनी को सिर्फ एक पल यही लगा - जैसे हरा रंग सारे दरवाजे़ में फैल गया था।

फिर हरे कांच की चूड़ियों की छन छन हुयी, तो शाहनी ने देखा एक गोरा गोरा हाथ एक झुके हुए माथे को छू कर आदाब बजा़ रहा है, और साथ ही एक झनकती हुई सी आवाज़ - "बहुत बहुत मुबारिक, शाहनी! बहुत बहुत मुबारिक...."

वह बड़ी नाजुक सी, पतली सी थी। हाथ लगते ही दोहरी होती थी। शाहनी ने उसे गाव-तकिये के सहारे हाथ के इशारे से बैठने को कहा, तो शाहनी को लगा कि उसकी मांसल बांह बड़ी ही बेडौल लग रही थी...।

कमरे के एक कोने में शाह भी था। दोस्त भी थे, कुछ रिश्तेदार मर्द भी। उस नाजनीन ने उस कोने की तरफ देख कर भी एक बार सलाम किया, और फिर परे गाव-तकिये के सहारे ठुमककर बैठ गयी। बैठते वक्त कांच की चूड़िया फिर छनकी थीं, शाहनी ने एक बार फिर उसकी बाहों को देखा, हरे कांच की और फिर स्वभाविक ही अपनी बांह में पड़े उए सोने के चूड़े को देखने लगी....

कमरे में एक चकाचौध सी छा गयी थी। हरएक की आंखें जैसे एक ही तरफ उलट गयीं थीं, शाहनी की अपनी आंखें भी,पर उसे अपनी आंखों को छोड़ कर सबकी आंखों पर एक गुस्सा-सा आ गया...

वह फिर एक बार कहना चाहती थी - अरी बदशुगनी क्यों करती हो? सेहरे गाओ ना ...पर उसकी आवाज गले में घुटती सी गयी थी। शायद ओरों की आवाज भी गले में घुट सी गयी थी। कमरे में एक खामोशी छा गयी थी। वह अधबीच रखी हुई ढोलक की तरफ देखने लगी, और उसका जी किया कि वह बड़ी जोर से ढोलक बजाये.....

खामोशी उसने ही तोड़ी जिसके लिये खामोशी छायी थी। कहने लगी, " मैं तो सबसे पहले घोड़ी गाऊंगी, लड़के का’सगन’ करुंगी, क्यों शाहनी?" और शाहनी की तरफ ताकती,हंसती हुई घोड़ी गाने लगी, "निक्की निक्की बुंदी निकिया मींह वे वरे, तेरी मां वे सुहागिन तेरे सगन करे...."

शाहनी को अचानक तस्सली सी हुई - शायद इसलिये कि गीत के बीच की मां वही थी, और उसका मर्द भी सिर्फ उसका मर्द था - तभी तो मां सुहागिन थी....

शाहनी हंसते से मुंह से उसके बिल्कुल सामने बैठ गयी -जो उस वक्त उसके बेटे के सगन कर रही थी...

घोड़ी खत्म हुई तो कमरे की बोलचाल फिर से लौट आयी। फिर कुछ स्वाभाविक सा हो गया। औरतों की तरफ से फरमाईश की गयी - "डोलकी रोड़ेवाला गीत।" मर्दों की तरफ से फरमाइश की गयी "मिरजे़ दियां सद्दां।"

गाने वाली ने मर्दों की फरमाईश सुनी अनसुनी कर दी, और ढोलकी को अपनी तरफ खींच कर उसने ढोलकी से अपना घुटना जोड़ लिया। शाहनी कुछ रौ में आ गयी - शायद इस लिये कि गाने वाली मर्दों की फरमाईश पूरी करने के बजाये औरतों की फरमाईश पूरी करने लगी थी....

मेहमान औरतों में से शायद कुछ एक को पता नहीं था। वह एक दूसरे से कुछ पूछ रहीं थीं, और कई उनके कान के पास कह रहीं थीं - "यही है शाह की कंजरी....."

कहनेवालियों ने शायद बहुत धीरे से कहा था - खुसरफुसर सा, पर शाहनी के कान में आवाज़ पड़ रही थी, कानों से टकरा रही थी - शाह की कंजरी.....शाह की कंजरी.....और शाहनी के मूंह का रंग फीका पड़ गया।

इतने में ढोलक की आवाज ऊंची हो गयी और साथ ही गाने वाली की आवाज़, "सुहे वे चीरे वालिया मैं कहनी हां...." और शाहनी का कलेजा थम सा गया -- वह सुहे चीरे वाला मेरा ही बेटा है, सुख से आज घोड़ी पर चढ़नेवाला मेरा बेटा.....

फरमाइश का अंत नहीं था। एक गीत खत्म होता, दूसरा गीत शुरू हो जाता। गाने वाली कभी औरतों की तरफ की फरमाईश पूरी करती, कभी मर्दों की। बीच बीच में कह देती, "कोई और भी गाओ ना, मुझे सांस दिला दो।" पर किसकी हिम्मत थी, उसके सामने होने की, उसकी टल्ली सी आवाज़ .....वह भी शायद कहने को कह रही थी, वैसे एक के पीछे झट दूसरा गीत छेड़ देती थी।

गीतों की बात और थी पर जब उसने मिरजे की हेक लगायी, "उठ नी साहिबा सुत्तिये! उठ के दे दीदार..." हवा का कलेजा हिल गया। कमरे में बैठे मर्द बुत बन गये थे। शाहनी को फिर घबराहट सी हुई, उसने बड़े गौर से शाह के मुख की तरफ देखा। शाह भी और बुतों सरीखा बुत बना हुआ था, पर शाहनी को लगा वह पत्थर का हो गया था....

शाहनी के कलेजे में हौल सा हुआ, और उसे लगा अगर यह घड़ी छिन गयी तो वह आप भी हमेशा के लिये बुत बन जायेगी..... वह करे, कुछ करे, कुछ भी करे, पर मिट्टी का बुत ना बने.....

काफी शाम हो गयी, महफिल खत्म होने वाली थी.....

शाहनी का कहना था, आज वह उसी तरह बताशे बांटेगी,जिस तरह लोग उस दिन बांटते हैं जिस दिन गीत बैठाये जाते हैं। पर जब गाना खत्म हुआ तो कमरे में चाय और कई तरह की मिठायी आ गयी.....

और शाहनी ने मुट्ठी में लपेटा हुआ सौ का नोट निकाल कर,अपने बेटे के सिर पर से वारा, और फिर उसे पकड़ा दिया,जिसे लोग शाह की कंजरी कहते थे।

"रहेने दे, शाहनी! आगे भी तेरा ही खाती हूं।" उसने जवाब दिया और हंस पड़ी। उसकी हंसी उसके रूप की तरह झिलमिल कर रही थी।

शाहनी के मुंह का रंग हल्का पड़ गया। उसे लगा, जैसे शाह की कंजरी ने आज भरी सभा में शाह से अपना संबंध जोड़ कर उसकी हतक कर दी थी। पर शाहनी ने अपना आप थाम लिया। एक जेरासा किया कि आज उसने हार नहीं खानी थी। वह जोर से हंस पड़ी। नोट पकड़ाती हुई कहने लगी, "शाह से तो तूने नित लेना है, पर मेरे हाथ से तूने फिर कब लेना है?चल आज ले ले......."

और शाह की कंजरी नोट पकड़ती हुई, एक ही बार में हीनी सी हो गयी.....

कमरे में शाहनी की साड़ी का सगुनवाल गुलाबी रंग फैल गया.......


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:40 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#18)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
18th December 2015, 02:53 PM

Quote:
Originally Posted by Madhu 14 View Post
speechless.......abhi poora thread to nahi padh payi main par is poem jko padh kar amrita ji ki shakhsiyat nazar aa rahi hai....kamaal ke ehsaas piroye hain...jinhe shabdon me dhalna sabke bas ki baat nahi hoti....

aapka shukriya di jo apki badaulat maine aaj inhe padha aur samjha.....

keep
sharing....

regards
madhu


Madhu...tumhe Amrita ji ki rachnaye pasand aa rhi hai...accha lga jaan kar, yu hi saath banaye rakhna.



~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#19)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
19th December 2015, 10:23 AM

ख़ुशी

दूर कहीं से आवाज़ आई--आवाज़ जैसे तेरी हो
कानों ने गहरी सांस ली ,जीवन -बाला काँप उठी

मासूम खुशी हाथ छुड़ा कर दोनों नन्हीं बाँहें फैला कर
एक बालिका की तरह नंगे पाँव भाग उठी

पहला काँटा संस्कार का ,दूसरा काँटा लोक लाज का
तीसरा काँटा धन दौलत का ,ख़तरे जैसे कितने काँटे......

तलवों से काँटे निकालती पोर दबाती लहू पोंछती
मीलों-कोसों लँगड़ाती हुई मासूम खुशी वहाँ आ पहुँची

अगला पाँव आगे को बढ़े ,पिछला पाँव पीछे को मुड़े
आवाज़ जैसे बिल्कुल तेरी ,नज़र जैसे बिल्कुल बेगानी

असमंजस का तीखा काँटा एड़ी में इस तरह चुभ गया
अक़्ल इल्म के नाखून हार गये ,जाने काँटा कहाँ तक उतर गया

सारा पाँव सूज गया है ,ज़हर-सा फैल रहा है
हैरान-परेशान ज़मीन पर बैठी मासूम ख़ुशी रो उठी है........

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:40 PM..
   
Reply With Quote
मॆरी लाश
Old
  (#20)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
मॆरी लाश - 21st December 2015, 09:36 AM

मॆरी लाश

और एक दिन मेरा अछूता कुंवारा जिस्म छिल गया घर पर आई तॊ माँ ने अंगारों जैसी आँखों से देखा , चूल्हे मे से एक लकड़ी खींच कर कहा ,"तुझे उसकी इतनी आग लगी हुई है , तॊ ये बलती लकड़ी अपने अन्दर डाल ले ....."सपनो मॆं और सहेलियों से मर्दों कि बातैं सुनी हुईं थीं , महक सरीखी बातें , पर माँ कि वात सुन कर ऐसा लगा जैसे एक बलती लकड़ी मॆरी टांगों मॆं रख दी गई हो ........
मैं कितने दिन तक अपने कमरे में बन्द पड़ी रोती रही और एक दिन माँ किसी साधू कॊ पकड़ ले आयीं ,और उसका दिया हुआ ताबीज़ मुझे घोल कर जबरन पिला दिया सारी रात मै चोरी -चोरी से उल्टीयां करती रही ,पर सुबह जब वो मुझे मॆरी सगाई का छुहारा खिलाने लगीं ,तब पता लगा कि किसी दुहाजू के साथ वह मेरा ब्याह करने लगी थीं वीरेंद्र हमारे मजहब का नहीँ था ,और ये दुहाजू हमारे मज़हब का था मैने छुहारे कॊ मुँह में से थूक दिया और माँ के हाथ से बाँह छुड़ा कर वीरेंद्र के घर कि और दौड़ पड़ी ....
और अचानक धरती में से लावा निकल पड़ा - चारों तरफ़ काली और बलती राख उड़ने लगी - वीरेंद्र नें पिछले हफ्ते किसी लड़की से ब्याह कर लिया था .....
और उस बलते शहर में से निकलते हुये मैने दायाँ पैर उठाया हुआ था ,और बायाँ पैर आगे रखने के लिये एडी उठायी हुई थी कि मैं वैसी कि वैसी उस गरम राख में एक लाश बन गई ... और यह है मेरे शहर के खंडहरौ में मॆरी लाश...


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:40 PM..
   
Reply With Quote
"मैडम रोज़ हैनी "
Old
  (#21)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
"मैडम रोज़ हैनी " - 21st December 2015, 10:52 AM

"मैडम रोज़ हैनी "

अमृता ने एक जगह लिखा है की यह दुनिया अदन भाग नहीं पर जरखेज धरती में जहाँ कहीं भी मोहब्बत हक और सच के फूल उगते हैं वह वर्जित बाग़ करार दे दिया जाता है ...सामाजिक कानून के सामने या महजबी कानून के सामने यहाँ इसकी कोई सुनवाई नहीं होती है ..पर सच तो यह है की ..हर काल में इसी तरह के शायर और आदिब पैदा होते हैं जो इस "वर्जित बाग़ "में कदम रखते हैं और उसके लिए आवाज़ उठाते हैं .चाहे कोई भी कीमत उन्हें इसकी क्यों न चुकानी पड़े

इसी तरह की कड़ी में उन्होंने "खलील जिब्रान" का जिक्र किया ..जिसने तीन कहानियाँ लिखी .लम्बी और पूरे ब्यौरेसे भरी हुई जिनके संग्रह को नाम दिया ..स्प्रिट्स रिबैलियस यह किताब न्यूयार्क में विजडम लाइब्रेरी ,ब्रांच फिलोसोफिकल लाइब्रेरी की और छापी थी ..१९४७ में .पर यह अंग्रेजी रूप .मूल अरबी किताब का अनुवादित रूप है ..

इसमें कही गयी पहली कहानी है" मैडम रोज़ हैनी " ..यह एक बहुत सादा सी कहानी है कि एक जवान होती अति सुन्दर लड़की से एक अमीर आदमी विवाह कर लेता है .सोना चांदी हीरे मोती हमेशा उसके पहनने को हाजिर रहते पर कुछ बरसों बाद लड़की सब कुछ होते हुए भी दो बूंद मोहब्बत के लिए तरसती रहती है उसी समय एक लड़का उस की जिन्दगी में आता है जिसकी आँखों में उसके सपनों की पूर्ति की रौशनी है वह लड़की उस अमीर घर को छोड़ कर उस खुदाई सिफ्तों वाले उस व्यक्ति के साथ चली जाती है जहाँ के रास्ते कटीले है और एक गरीब सी बस्ती में उस का घर है ...
उस अमीर आदमी की जुबान जैसे कंटीली हो जाती है और उसके साथ ही पूरे गांव और कबीले की भी भी जुबान उस लड़की को लानतें भेजती थकती नहीं ..इस का ब्यौरा जिस कहानी कार ने दिया वह भी उसी कबीले का था सबब बनता है और वह उस लड़की के साथ उस सिफ्तों वाले मर्द को भी मिलता है और उन दोनों के चमकते चेहरे देख कर उसको गांव कबीले वालों के उफनते चेहरे याद आ जाते हैं ...
उस एक मिनिट की खामोशी जैसे उस औरत और उस मर्द को दी गयी नियाज जैसी लगती है और उसको लगता है कोई खुदाई चीज है जो इन दोनों को देखने से पहले उसने कभी देखी नहीं है और तब उसको वह नाजुक चीज समझ आती है कि औरत ने इतनी बड़ी मुखालफत क्यों सह ली थी .सारे कानून उसके पीछे पड़े थे पर वह देख रहा था की दो तन मन से हसीं व्यक्तियों ने मिल कर कैसी एक आत्मा रच ली थी ..वे दोनों खड़े होते हैं और उनके बीच मोहब्बत का फ़रिश्ता खडा हुआ दिखता है जो दोनों के सर पर अपने पंख फैलाए दोनों को बुरी आवाजों से बचा रहा है ..दो हंसते चेहरे ,सच और हक से चमकते ..ख़ुशी का एक चश्मा उनके पैरों के पास बह रहा है वह चश्मा जो कानून की और मजहब की गलियों से सूखे हुए होंठो को अपना दामन दे रहा है .
वह दोनों को सलाम वह दोनों को सलाम दुआ कर लौटता है और सोचता है दुनिया में हर चीज कुदरत के कानून में होती है मोहब्बत और आजादी कुदरती होते हैं पर इंसान इस अमीरी से वंचित क्यों रह जाता है ? खुदा द्वारा दी गयी रूह के लिए जमीनी कानून बनाए जाते हैं बहुत तंग बहुत संकरे ..वे एक दुखदायक कैदखाने की सलाखे बनाते हैं ..हारा हुआ इंसान एक गहरी कब्र खोदता है और मन की मुरादें उस में कही गहरे दबा देता है और इस तरह समाज बनता है ...और कोई एक रूह का कहा मान कर समाज के कानूनों को नजरंदाज करता है और उसके बाकी साथी उसको जलावतनी के काबिल समझ लेतें हैं
और तब एक सवाल बहुत तेजी से जहन में घूम जाता है कि क्या इंसान कभी सिर उठा कर सूरज की और देखेगा ? जहाँ उसका साया मुर्दों की बस्ती पर पड़ता नहीं दिखेगा ?
यह किताब थी खलील जिब्रान की ,उस वर्जित फल को तोड़ने जैसी ,जो मोहब्बत ,हक और सच का फल था ...अरबी में छपने पर .सुल्तानों .अमीरों और पदारियों ने बहुत खतरनाक कह कर बैरुत की मण्डी में सरेआम जला दी थी ...साथ ही खलील जिब्रान को गिरजे से बाहर निकाल दिया था .और उसको उसके वतन से जलावतन कर दिया था ...


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:40 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#22)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
23rd December 2015, 02:22 PM

"आधी रोटी पूरा चाँद"

वह पूरे चाँद की एक रात थी । बात शायद १९५९ की है, मैं दिल्ली रेडियो में काम करती थी, और वापसी पर मुझे दफ़्तर की गाड़ी मिलती थी । एक दिन दफ़्तर की गाड़ी मिलने में बहुत देर हो गई उस दिन इमरोज़ मुझसे मिलने के लिए वहां आया हुआ था, और जब इंतज़ार करते करते बहुत देर हो गयी, तो उसने कहा चलो, मैं घर छोड़ आता हूँ ।
वहां से चले तो बाहर पुरे चाँद की रात देखकर कोई स्कूटर टैक्सी लेने का मन नहीं किया । पैदल चल दिए पटेल नगर। पहुँचते पहुंचते बहुत देर हो गयी थी, इसलिए मैंने घर के नौकर से कहा मेरे लिए जो कुछ भी पका हुआ है, वह दो थालियों में डालकर ले आये ।
रोटी आई, तो हर थाली में बहुत छोटी छोटी एक-एक तंदूरी रोटी थी । मुझे लगा कि एक रोटी से इमरोज़ का क्या होगा, इसलिए उसकी आँख बचाकर मैंने अपनी थाली की एक रोटी में से आधी रोटी उसकी थाली में रख दी।
बहुत बरसों के बाद इमरोज़ ने कहीं इस घटना को लिखा था - 'आधी रोटी; पूरा चाँद'- पर उस दिन तक हम दोनों को सपना सा भी नहीं था वक़्त आएगा, जब हम दोनों मिलकर जो रोटी कमाएंगे आधी-आधी बाँट लेंगे ....

______(इमरोज़ के बारे में लिखते हुए अमृता)______


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:39 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#23)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
23rd December 2015, 02:26 PM

.. बरसों के बावरोले कुछ इस तरह उठे कि मेरी यह काया कई बार बुझती रही पर एक कोई लकीर थी जो माथे में जलती रही... वह माँस की दरगाह जैसी और एक दर्द था-- दरगाह के दिये की तरह और एक याद-सी-- अज़ल के पीर का धागा... और वही धागा-- टूटती काया से प्राणों को बांधता रहा और एक सपना था जो शीरनी बांटता रहा जाने यह किस जन्म की गाथा मैं बेमुराद मरी थी और इस दरगाह पर-- मेहन्दी का पेड बनी मैं उगी हुई थी... एक बात थी-- जो कई जन्म चलती रही और मेहन्दी का पत्ता तोड कर एक सुर्ख रंग था हाथों पर लगाती रही... तू--मेरे माथे की लकीर जैसा और मैं--एक भूली हुई याद जैसी... बस, यही गाथा थी मैं सारी उम्र लिखती रही

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:39 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#24)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
23rd December 2015, 02:28 PM

एक मुलाकात


मैं चुप शान्त और अडोल खड़ी थी
सिर्फ पास बहते समुन्द्र में तूफान था……
फिर समुन्द्र को खुदा जाने
क्या ख्याल आया
उसने तूफान की एक पोटली सी बांधी
मेरे हाथों में थमाई
और हंस कर कुछ दूर हो गया

हैरान थी….
पर उसका चमत्कार ले लिया
पता था कि इस प्रकार की घटना
कभी सदियों में होती है…..

लाखों ख्याल आये
माथे में झिलमिलाये

पर खड़ी रह गयी कि उसको उठा कर
अब अपने शहर में कैसे जाऊंगी?

मेरे शहर की हर गली संकरी
मेरे शहर की हर छत नीची
मेरे शहर की हर दीवार चुगली

सोचा कि अगर तू कहीं मिले
तो समुन्द्र की तरह
इसे छाती पर रख कर
हम दो किनारों की तरह हंस सकते थे

और नीची छतों
और संकरी गलियों
के शहर में बस सकते थे….

पर सारी दोपहर तुझे ढूंढते बीती
और अपनी आग का मैंने
आप ही घूंट पिया

मैं अकेला किनारा
किनारे को गिरा दिया
और जब दिन ढलने को था
समुन्द्र का तूफान
समुन्द्र को लौटा दिया….

अब रात घिरने लगी तो तूं मिला है
तूं भी उदास, चुप, शान्त और अडोल
मैं भी उदास, चुप, शान्त और अडोल
सिर्फ- दूर बहते समुन्द्र में तूफान है…

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:39 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#25)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
23rd December 2015, 02:35 PM

यह कैसी कशमकश है जिंदगी में
किसी को ढूढते हैं हम किसी में !


अमृता और इमरोज़ के ख़त पढ़ते वक्त यह देखा कि सिर्फ़ प्यार ही उनके इश्क की जुबान नही थी | कुछ ख़त उनके शिकवे शिकायत भी थे ,पर वह भी जैसे किसी रूहानी दुनिया का एक ख्वाब सा जगाते हुए ...|
इमरोज़ लिखते हैं कि ..यह १९६१ के शुरू के ख़त हैं ,जिन पर न कोई तारीख है ,न कोई दस्तखत ,उन्ही दिनों अमृता ने एक कहानी लिखकर मुझे भेजी थी ,"" रौशनी का हवाका '' इस में उसका एक ख़त था फ़िर वह एक कविता लिख भेजी थी सालमुबारक .यह भी उसका एक ख़त थी और फ़िर एक नावल भेजा आइनेरेंड का' फाउन्टेन हेड ',यह भी मैंने उसकाएक ख़त समझकर पढ़ा था |यह ख़त जिन पर अमृता ने न तारीख लिखी है न अपना नाम ..उसने यह ख़त अपने गुस्से की शिखर दोपहरी में लिखे हैं --शायद प्यार में ही नही गुस्से में भी न वक्त याद रहता है न नाम ...

आप ख़ुद ही पढ़े ..

तुम्हारे और मेरे नसीबों में बहुत फर्क है ,तुम वह खुशनसीब इंसान हो ,जिसे तुमने मोहब्बत kii ,उसने तुम्हारे एक इशारे पर सारी दुनिया वार दी , पर मैं वह बदनसीब इंसान हूँ ,जिसे मैंने मोहब्बत की ,उसने मेरे लिए अपने घर का दरवाजा बंद कर लिया ...दुख ने अब मेरे दिल की उम्र बहुत बड़ी कर दी ;; अब मेरा दिल उम्मीद के किसी खिलोने के साथ खेल नही सकता है |

हर तीसरे दिन पंजाब के किसी न किसी अखबार में मेरे बम्बई बिताये दिनों का जिक्र होता है बुरे से बुरे शब्दों में , पर मुझे उनसे कोई शिकायत नही है क्यूंकि उनकी समझ मुझे समझ सकने के काबिल नही हैं केवल दर्द इस बात का है कि मुझे उसने भी नही समझा .जिसने कभी मुझसे कहा था --"" मुझे जवाब बना लो सारे का सारा |''

मुझे अगर किसी ने समझा है तो वह है तुम्हारी मेज की दराज में पड़ी हुई रंगों की शीशियाँ .जिनके बदन में रोज़ साफ़ करती और दुलारती थी | वह रंग मेरी आंखों में देखकर मुस्कराते थे ,क्यूंकि उन्होंने मेरी आँखों कि नजर का भेद पा लिया था | उन्होंने समझ लिया था कि मुझे तुम्हारी क्रियटिव पावर से ऐसी ही मोहब्बत है ,वह रंग तुम्हारे हाथों का स्पर्श के लिए तरसते रहे थे और मेरी आँखे उन रंगों से उभरने वाली तस्वीरों के लिए | वह रंग तुम्हारे हाथों का स्पर्श इस लिए माँगते थे क्यूंकि ""दे वांटेड टू जस्टिफाई देयर एगिजेंट्स "'| मैंने तुम्हारा साथ इसलिए चाहा था कि तुम्हारी कृतियों में मुझे अपने अस्तित्व के अर्थ भी मिलते थे |यह अर्थ मुझे अपनी कृतियों में भी मिलते थे ,पर तुम्हारे साथ मिल कर यह अर्थ बहुत तगडे हो जाते थे | तुम एक दिन अपनी मेज पर काम करने लगे थे कि तुमने हाथ में ब्रश पकड़ा और पास रखी रंग की शीशी को खोला मेरे माथे ने न जाने तुमसे क्या कहा ,तुमने हाथ में लिए हुए ब्रश में थोड़ा सा रंग लगा कर मेरे माथे को छुआ दिया .... न जाने वह मेरे माथे की कैसी खुदगर्ज मांग थी ,आज मुझे उसको सजा मिल रही है ,आदम ने जैसे गेहूं का दाना खा लिया हो या सेब खा लिया था, तो उसको बहिश्त से निकाल दिया गया था ....




~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:39 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#26)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
23rd December 2015, 02:39 PM



~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#27)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
23rd December 2015, 02:41 PM



~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#28)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
30th December 2015, 12:51 PM

मर्द और औरत के बीच का रिश्ता इतना उलझा हुआ क्यों है ?
क्योंकि मर्द ने औरत के साथ सिर्फ सोना सीखा है जागना नहीं।

‪-अमृता प्रीतम‬


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:38 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#29)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
30th December 2015, 12:53 PM


तू नहीं आया

चैत ने करवट ली
रंगों के मेले के लिए
फूलों ने रेशम बटोरा-
तू नहीं आया

दोपहरें लम्बी हो गयीं,
दाख़ों को लाली छू गयी
दराँती ने गेहूँ की बालियाँ चूम लीं-
तू नहीं आया

बादलों की दुनिया छा गयी,
धरती ने हाथों को बढ़ाया
आसमान की रहमत पी ली-
तू नहीं आया

पेड़ों ने जादू कर दिया,
जंगल से आयी हवा के
होठों में शहद भर गया-
तू नहीं आया

ऋतु ने एक टोना कर दिया,
और चाँद ने आ कर
रात के माथे पर झूमर लटका दिया-
तू नहीं आया

आज तारों ने फिर कहा,
उम्र के महल में अब भी
हुस्न के दीये से जल रहे-
तू नहीं आया

किरणों का झुरमुट कह रहा,
रातों की गहरी नींद से
उजाला अब भी जागता-
तू नहीं आया


-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:38 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#30)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
30th December 2015, 12:54 PM



~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#31)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:27 PM

नज़्म कभी कागज को देखे
और इस तरह मुँह छुपाये
जैसे कागज पराया मर्द होता है......

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:38 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#32)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:27 PM

...जब मै तेरा गीत लिखने लगी...

मेरे शहर ने जब तेरे क़दम छूएँ.
सितारों की मुट्ठियां भरकर
आसमान ने निछावर कर दी..
दिल के घाट पर मेला जुड़ा..
ज्युँ, रातें, रेशम की परियाँ
पाँत बाँधकर आ गई..
जब मै तेरा गीत लिखने लगी....

कागज पे उभर आयी केशर की
लकीरें..
सूरज ने आज मेहन्दी घोली,
हथेलियों पर रंग गई..

"हमारी दोनो की तकदीरें "

‪-‎अमृता_प्रीतम‬


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:37 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#33)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:29 PM

अब जिस सपने से बड़ी हैरान जागी हूं, इमरोज़ की बांह पकड़ कर कितनी ही देर तक उसकी ओर देखती रह गई कि यह सपना उसे कैसे सुनाऊं ! कुछ भी लफ्जों की पकड़ में नहीं आ रहा था...हौले-हौले आधे-अधूरे लफ्जों में सुनाने की कोशिश की...
"किसी दीवार में एक बहुत बड़ा शीशा लगा हुआ है...अचानक मेरा ध्यान शीशे की ओर जाता है और देखती हूँ कि सिर से पैर तक मेरी सूरत किसी मंदिर में पड़ी हुई पार्वती की सूरत जैसी हो गई है...बदन पर सफेद धोती है जिस का पल्ला सिर तक लिपटा है सिर पर लम्बे बालों का एक जूड़ा है...नक्श इसी तरह तराशे हुए...पर मेरी सूरत, आज से कुछ बरस पहले जैसी है...चेहरे पर गंभीरता आज जैसी है, पर नक्शों की जवानी आज से कुछ बरस पहले जैसी...
"पत्थर की एक गढ़ी हुई मूर्ति की तरह अपने आपको देखती हूं...और खुद ही कहती हूं-आज मैंने यह कैसा भेस बनाया हुआ है ? बिल्कुल शिव की गौरी जैसा..." सपने की हैरानी और खुमारी बताई नहीं जाती.
-अमृता..


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:37 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#34)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:32 PM

दीवानगी का आलम साँई! जिन पहडियों की ओट में एक छिपी-सी नदी बह्ती है मैं रोज नदी पर जाकर-- जो पानी दरगाह के लिए लाती थी उस दिन भी वही पानी था, और रोज की तरह मैने तेरा कमंडल भरा था, और तेरे आसन के पास रख दिया... वह कौन-सा काल था, यह तो मैं नहीं जानती पर जानती हूँ--जब रात उतरने लगी थी मुझे बहुत प्यास लगी और तेरे कमंडल से मैने, कुछ पानी पी लिया वही जो तेरे आसन के पास रखा था-- लगा--कुछ आंचल में भर लिया है और मैने आग का एक घूंट पिया है रात बहुत ठण्डी थी-- पर रगों में कुछ बहुत गर्म बहने लगा मैं बाहर खुले में चलती रही और जैसे ही सूर्य उदय होने को था मैं नदी पर गई... नदी की छाती में एक ज्वार-सा आया वह मुझे देखकर--- एक घडी-भर बहने लगी फिर ज्वार को बदन में सम्भालती आहिस्ता-से कहने लगी- "यह बात मुझसे न पूछो कमंडल से पूछ्ना और वह कमंडल जो भी कहेगा मुझे भी बताना..." साँई! फिर तेरी दरगाह पर जब अकेली हुई मैं कांपती-सी कमंडल के पास गई कमंडल हँस दिया, कहने लगा-- "पगली! कुछ बातें ऐसॆ भी होती हैं जो किसी से नहीं पूछ्ते जो आग तूने पी है वह साँई की अमानत है -- उसे अन्तर में सम्भाल ले..." मैं नहीं जानती साँई! यह कौन-से काल की गाथा बस इतना जानती हूँ कि जो भी हुआ था-- तेरी दरगाह पर हुआ था... और इतना जानती... कुछ ऐसा भी होता है जो काल-मुक्त होता है... और देख! कई मौतों से गुजरकर मेरी देह के भीतर आग का वह घूंट जीता है...

-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:37 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#35)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:33 PM

धूप का टुकड़ा

मुझे वह समय याद है—
जब धूप का एक टुकड़ा सूरज की उंगली थाम कर
अंधेरे का मेला देखता उस भीड़ में खो गया।

सोचती हूँ: सहम और सूनेपन का एक नाता है
मैं इसकी कुछ नहीं लगती
पर इस छोटे बच्चे ने मेरा हाथ थाम लिया।

तुम कहीं नहीं मिलते
हाथ को छू रहा है एक नन्हा सा गर्म श्वास
न हाथ से बहलता है न हाथ को छोड़ता है।

अंधेरे का कोई पार नही
मेले के शोर में भी खामोशी का आलम है
और तुम्हारी याद इस तरह जैसे धूप का एक टुकड़ा।


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...



Last edited by sunita thakur; 8th January 2016 at 03:37 PM..
   
Reply With Quote
Old
  (#36)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:35 PM

कविता ‘रसीदी टिकट’ नामक पुस्तक से.

एक पत्थरों का नगर था
सूर्थवंश के पत्थर
और चंद्रवंश के पत्थर
उस नगर में रहते थे -
और कहते हैं
एक थी शिला और एक था पत्थर
और उनका उस नगर में संयोग लिखा था
और उन्होंने मिलकर एक वर्जित फल चखा था
वे न जाने चकमाक पत्थर थे
जो पत्थरों की सेज पर सोए
तो पत्थरों की रगड़ से
मैं आग की तरह जन्मी आग की ऋतु में
फिर बहती हवाएं मुझे जहां भी ले जातीं
गर्म-गर्म राख मेरे शरीर से झड़ती
फिर वही हवा कहीं से दौड़ती आयी
और हाथों में कुछ अक्षर ले आयी
और कहने लगी-
‘इन्हें छोटी काली लकीरें न समझना
यह लकीरों के गुच्छे तेरी आग के समर्थ हैं-’
और यह कहते हुए वह आगे बढ़ गयी-
‘तेरी आग की उम्र इन अक्षरों को लग जाए।’
-अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#37)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:35 PM

परछाइयों को पकड़ने वालो -
छाती में जलती हुई आग की परछाई नहीं होती...!!!

- अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#38)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
8th January 2016, 03:36 PM

औरत की पाकीज़गी का ताल्लुक समाज ने कभी भी औरत के मन की अवस्था से नहीं पहचाना;
हमेशा उसके तन से जोड़ दिया।
मोहब्बत और वफ़ा -
ऐसी चीज़ें नहीं है जो किसी बेगाने बदन को छूते ही ख़त्म हो जाए;
हो सकता है पराये बदन से गुज़र कर वह और मज़बूत हो जाएँ,
जिस तरह इंसान मुश्किलों से गुज़र कर और मज़बूत हो जाता है.

- अमृता प्रीतम


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#39)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
11th January 2016, 03:25 PM

कब और किस दिशा में कुछ सामने आएगा ,कोई सवाल पूछेगा ,यह रहस्य पकड़ में नही आता ..एक बार मोहब्बत और दर्द के सारे एहसास ,सघन हो कर आग की तरह लपट से पास आए और इश्क का एक आकार ले लिया ..
उसने पूछा ..कैसी हो ? ज़िन्दगी के दिन कैसे गुजरते रहे ..?

जवाब दिया ..तेरे कुछ सपने थे .मैं उनके हाथों पर मेहन्दी रचाती रही .
उसने पूछा ..लेकिन यह आँखों में पानी क्यूँ है ?

कहा ..यह आंसू नही सितारे हैं ...इनसे तेरी जुल्फे सजाती रही ..

उसने पूछा .इस आग को कैसे संभाल कर रखा ?

जवाब दिया काया की दलिया में छिपाती रही

उसने पूछा -बरस कैसे गुजारे ?

कहा तेरे शौक की खातिर काँटों का वेश पहनती रही

उसने पूछा काँटों के जख्म किस तरह से झेले

कहा दिल के खून में शगुन के सालू रंगती रही

उसने कहा और क्या करती रही

कहा कुछ नही तेरे शौक की सुराही से दुखों की शराब पीती रही

उसने पूछा .इस उम्र का क्या किया

कहा कुछ नही तेरे नाम पर कुर्बान कर दी .[यह एक अमृता का साक्षात्कार है जो एक नज्म की सूरत में है ..]

अमृता ने एक जगह लिखा है की वह इतिहास पढ़ती नही .इतिहास रचती है ..और यह भी अमृता जी का कहना है वह एक अन सुलगाई सिगरेट हैं ..जिसे साहिर के प्यार ने सुलगाया और इमरोज़ के प्यार ने इसको सुलगाये रखा ..कभी बुझने नही दिया ..अमृता का साहिर से मिलन कविता और गीत का मिलना था तो अमृता का इमरोज़ से मिलना शब्दों और रंगों का सुंदर संगम ....हसरत के धागे जोड़ कर वह एक ओढ़नी बुनती रहीं और विरह की हिचकी में भी शहनाई को सुनती रहीं ..

धरती पर बहती गंगा का रिश्ता पातळ गंगा से होता है .और एक रिश्ता आकाश गंगा से /जो दर्द होंठों पर नहीं आया वह पातालगंगा का पानी बन गया उसी का नाम साहिर है ..और जो इबादत बन कर होंठो पर आया वह आकाश गंगा का पानी बन गया उसी का नाम इमरोज़ है ...

साहिर की मोहब्बत में वही लिखती रही ..
फ़िर तुम्हे याद किया
हमने आग को चूम लिया
इश्क एक जहर का प्याला है
इक घूँट हमने फ़िर से मांग लिया ..

और इमरोज़ की सूरत में जब अपने एहसास की इन्तहा देखी ,एक दीवानगी का आलम था तब लिखा ..

कलम से आज गीतों का काफिया तोड़ दिया
मेरा इश्क यह किस मुकाम पर आया है
उठ ! अपनी गागर से पानी की कटोरी दे दे
मैं राह के हादसे ,अपने बदन से धो लूंगी.....

यह राह के हादसे ,आकाशगंगा का पानी ही धो सकता है .एक दर्द ने मन की धरती की जरखेज किया था .और एक दीवानगी उसका बीज बन गई मन की हरियाली बन गई ..वह मोहब्बत के रेगिस्तान से भी गुजरी है और समाज और महजब के रेगिस्तान से भी ..वक्त वक्त पर उनको कई फतवे मिलते रहे ..और वह लिखती रही ..

बादलों के महल में मेरा सूरज सो रहा --
जहाँ कोई दरवाजा नही ,कोई खिड़की नही
कोई सीढ़ी नही --
और सदियों के हाथों ने जो पगडण्डी बनायी है
वह मेरे चिंतन के लिए बहुत संकरी है ....


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Old
  (#40)
sunita thakur
Moderator
sunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.comsunita thakur is the among the best Shayars at Shayri.com
 
sunita thakur's Avatar
 
Offline
Posts: 15,145
Join Date: May 2006
Location: Chandigarh (Mohali)
Rep Power: 57
13th January 2016, 11:32 AM

दुखांत ये नहीं होता .....

दुखांत यह नहीं होता कि रात की कटोरी को कोई जिन्दगी के शहद से भर न सके, और वास्तविकता के होंठ कभी उस शहद को चख ना सकें ....दुखांत यह होता है कि जब रात की कटोरी पर से चंद्रमाँ की कलई उतर जाये और उस कटोरी में पड़ी कल्पनाये कसैली हो जाये.

दुखांत ये नहीं होता की आपकी किस्मत से आपके साजन का नाम-पता ना पढ़ा जाये और आपकी उम्र की चिट्ठी सदा रुलती रहे. दुखांत यह होता है कि आप अपने प्रिये को अपनी उम्र कि सारी चिट्ठी लिख लें और आपके पास से आपके प्रिये का नाम पता खो जाये.

दुखांत यह नहीं होता कि जिन्दगी की लम्बी डगर पर समाज के बंधन अपने कांटे बिखेरते रहे..और आपके पैरो में से सारी उम्र लहू बहता रहे. दुखांत यह होता है कि आप लहू लुहान पैरो से एक ऐसी जगह पर खड़े हो जाये जिसके आगे कोई रास्ता आपको बुलावा न दे.

दुखांत यह नहीं होता कि आप अपने इश्क के ठिठुरते शरीर के लिए सारी उम्र गीतों के पैरहन सीते रहें. दुखांत यह होता है कि इन पैरहनो को सीने के लिए आपके विचारो का धागा चूक जाये और आपकी सुई (कलम) का छेद टूट जाये.

....अमृता प्रीतम.....


~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


.....Sunita Thakur.....

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हँसते हुए छोड़ गया
....के तेरे अपने ही बहुत हैं तुझे रुलाने के लिए...


   
Reply With Quote
Reply

Thread Tools
Display Modes Rate This Thread
Rate This Thread:

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump



Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2018, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com