Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Shayri > Ghazal Section

Reply
 
Thread Tools Rate Thread Display Modes
कहाँ से बात चली और कहाँ तक आई है
Old
  (#1)
zarraa
Registered User
zarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.comzarraa is the among the best Shayars at Shayri.com
 
zarraa's Avatar
 
Offline
Posts: 1,718
Join Date: Dec 2010
Rep Power: 37
कहाँ से बात चली और कहाँ तक आई है - 13th May 2023, 06:33 PM

कहाँ से बात चली और कहाँ तक आई है
दुआ उमीद से होकर गुमाँ तक आई है

वफ़ा की बहस सदा जिस्म-ओ-जाँ तक आई है
फिर उसके बाद वो सूद-ओ-ज़ियाँ* तक आई है
*फ़ायदा और नुक़सान

जो चैन से है वो समझे कि चैन से सब हैं
ख़बर ज़मीं की कहाँ आसमाँ तक आई है

किसी का दर्द मेरे ज़ब्त* से है जीत गया
किसी की ख़ामुशी मेरी ज़ुबाँ तक आई है
*सहनशक्ति

रखेंगे दूर भला कब तलक दर-ओ-दीवार
बुराई शहर की सहन-ए-मकाँ तक आई है

ख़ुलूस-ओ-मेहर-ओ-वफ़ा पर तो शक करेंगे लोग
मेरी फ़राख़-दिली इम्तिहाँ तक आई है

ज़रा हुई है तसल्ली कि राएगाँ* भी नहीं
ज़रा सी धूप मेरे साएबाँ** तक आई है
*व्यर्थ **छाँव

यहाँ पे आएँ हैं औज़ार लेके लोग कई
बहार शायद अब इस गुलसिताँ तक आई है

फ़ुज़ूल अब कोई मरहम लगाना चारागर
ये चोट देर से अपने निशाँ तक आई है

हया तो आए मगर कुछ गुमाँ भी है हमदम
हमारी बात जो अहल-ए-जहाँ* तक आई है
*दुनिया के लोग

कहाँ-कहाँ न मेरी जुस्तुजू गई “ज़र्रा”
पर आख़िरश वो मेरे आस्ताँ* तक आई है
*निवास

- ज़र्रा

kahaaN se baat chali aur kahaaN tak aai hai
dua umeed se hokar gumaaN tak aai hai

vafa ki bahas sada jism-o-jaaN tak aai hai
phir uske baad vo sood-o-ziyaaN* tak aai hai
*profit and loss

jo chain se hai vo samjhe ki chain se sab haiN
KHabar zameeN ki kahaaN aasmaaN tak aai hai

kisi ka dard mere zabt* se hai jeet gaya
kisi ki KHaamushi meri zubaaN tak aai hai
*tolerance

rakheNge door bhala kab talak dar-o-deevaar
buraai shahar ki sahn-e-makaaN tak aai hai

KHuloos-o-mehr-o-vafa par to shak kareNge log
meri faraaKH-dili imtihaaN tak aai hai

zara hui hai tasalli ki raaegaaN* bhi naheeN
zara si dhoop mere saaebaaN** tak aai hai
*futile **shade

yahaaN pe aae haiN auzaar leke log kai
bahaar shaayad ab is gulsitaaN tak aai hai

fuzool ab koi marham lagaana chaaragar
ye choT der se apne nishaaN tak aai hai

haya to aae magar kuchh gumaaN bhi hai hamdam
hamaari baat jo ahl-e-jahaaN* tak aai hai
*people of world

kahaaN-kahaaN na meri justujoo gai “zarraa”
par aaKHirash vo mere aastaaN* tak aai hai
*abode

- zarraa


maiN rehnuma ke kahe raastoN se door raha
mera maqaam sada manziloN se door raha

Last edited by zarraa; 13th May 2023 at 07:19 PM..
   
Reply With Quote
Reply

Thread Tools
Display Modes Rate This Thread
Rate This Thread:

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump



Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2024, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com