Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Search Forums

Showing results 1 to 40 of 137
Search took 0.05 seconds.
Search: Posts Made By: ek pal
Forum: Shayri-e-Dard 24th December 2010, 01:09 PM
Replies: 19
Views: 2,208
Posted By ek pal
Bahut Nazdiik Tha Cheharaa Unke Tamanna Chhuune...

Bahut Nazdiik Tha Cheharaa Unke
Tamanna Chhuune MeN Raat Ho Gai ...

bahut khoob ,,,,,,,,, naresh ji
Forum: Shayri-e-Dard 12th December 2010, 04:37 PM
Replies: 33
Views: 2,023
Posted By ek pal
Kis Taraf Kaa Raastaa Lungaa Main Rukaa Nahi...

Kis Taraf Kaa Raastaa Lungaa Main
Rukaa Nahi Toh Manzil Paa Lungaa MaiN ...

Agar Wahashat Ki Aandhi Aor Chali "Naresh"
Dekhnaa Nafarat Ka Pathar UThaa Lungaa Main ...

bhaut jabardast .......
Forum: Shayri-e-Dard 11th December 2010, 03:21 PM
Replies: 29
Views: 2,321
Posted By ek pal
Saahil Ke TutTne Ki Wazah Jo Ho LaharoN Ne...

Saahil Ke TutTne Ki Wazah Jo Ho
LaharoN Ne Mushkile BaDaai Sii Hai ...

Chal Kar Aai Hai Pyaas Safar Se
Barsaat Ne Aankh Dikhaai Sii Hai ...

Naresh Ji . kya khub kaha hai . daad hi daad :)
Forum: Shayri-e-Dard 3rd December 2010, 05:53 PM
Replies: 31
Views: 2,263
Posted By ek pal
Love nice job sir...

nice job sir jii.....................................................
Forum: Shayri-e-Dard 3rd December 2010, 05:51 PM
Replies: 44
Views: 4,287
Posted By ek pal
aapki rachnaon ke bhav duba dete hai sir...

aapki rachnaon ke bhav duba dete hai sir jii..............
Forum: Shayri-e-Dard 3rd December 2010, 05:46 PM
Replies: 42
Views: 9,965
Posted By ek pal
wah wah sirjee padhkar man prasann ho...

wah wah sirjee padhkar man prasann ho gaya.....................
Forum: Shayri-e-Dard 28th October 2010, 01:21 PM
Replies: 25
Views: 2,063
Posted By ek pal
Jab Se Mausam Ne Badle Hai Tebar "Naresh" ...

Jab Se Mausam Ne Badle Hai Tebar "Naresh"
Saawan Ke HontoN Pe Pyaas Hai Kahiin ...

Makata bahut khuub likha aapne .... Naresh Ji .. daad
Forum: Shayri-e-Dard 28th October 2010, 01:12 PM
Replies: 22
Views: 2,177
Posted By ek pal
Radhika Ji .. boht sundar lage aapki kavita ke...

Radhika Ji .. boht sundar lage aapki kavita ke ehsaas ... daad
Forum: Shayri-e-Dard 23rd October 2010, 03:08 PM
Replies: 12
Views: 1,347
Posted By ek pal
Nice Thought .................. Mushkil Ji ! ...

Nice Thought .................. Mushkil Ji ! Daad !
Forum: Shayri-e-Dard 23rd October 2010, 03:04 PM
Replies: 36
Views: 1,879
Posted By ek pal
Be-FikR Ghoom Rahi Hai YahaaN Beimaanii Gali...

Be-FikR Ghoom Rahi Hai YahaaN Beimaanii
Gali Gali Imaan Ka Saudaa Ho Raha Hai ...

Soyaa Nahi Kai RaatoN Se "Naresh"
Mere Khwaab Ka Zakhm Haraa Ho Raha Hai ...

Naresh Bhai .. Too Good...
Forum: Shayri-e-Dard 23rd October 2010, 02:59 PM
Replies: 15
Views: 974
Posted By ek pal
Naresh Bhai .. boht khuub nimantran raha aapka ...

Naresh Bhai .. boht khuub nimantran raha aapka
yunhi likhte raho

daad !
Forum: Hindi Kavitayen 18th October 2010, 08:53 PM
Replies: 2
Views: 885
Posted By ek pal
very nice sharing sir.........................

very nice sharing sir.........................
Forum: Ghazal Section 24th September 2010, 11:23 PM
Replies: 483
Views: 102,886
Posted By ek pal
by Zainy jii Next: aafataab se kahaa ek...

by Zainy jii

Next:

aafataab se kahaa ek din too apanii bhii kuchh sunaa,
bolaa n jaane kis aag me.n- jalaa rahii hai zindagii.
Forum: Shayri-e-Mashahoor Shayar 23rd September 2010, 11:43 PM
Replies: 34
Views: 8,657
Posted By ek pal
शायर-ए-फ़ितरत हूँ मैं जब फ़िक्र फ़र्माता हूँ मैं ...

शायर-ए-फ़ितरत हूँ मैं जब फ़िक्र फ़र्माता हूँ मैं
रूह बन कर ज़र्रे-ज़र्रे में समा जाता हूँ मैं

आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं
जैसे हर शै में किसी शै की कमी पाता हूँ मैं

जिस...
Forum: Shayri-e-Mashahoor Shayar 23rd September 2010, 11:41 PM
Replies: 34
Views: 8,657
Posted By ek pal
हाँ किस को है मयस्सर ये काम कर गुज़रना इक...

हाँ किस को है मयस्सर ये काम कर गुज़रना
इक बाँकपन से जीना इक बाँकपन से मरना

दरिया की ज़िन्दगी पर सदक़े हज़ार जानें
मुझ को नहीं गवारा साहिल की मौत मरना

साहिल के लब से पूछो दरिया के दिल से पूछो...
Forum: Shayri-e-Mashahoor Shayar 23rd September 2010, 11:38 PM
Replies: 34
Views: 8,657
Posted By ek pal
अगर न ज़ोहरा जबीनों के दरमियाँ गुज़रे तो फिर...

अगर न ज़ोहरा जबीनों के दरमियाँ गुज़रे
तो फिर ये कैसे कटे ज़िन्दगी कहाँ गुज़रे

जो तेरे आरिज़-ओ-गेसू के दरमियाँ गुज़रे
कभी-कभी तो वो लम्हे बला-ए-जाँ गुज़रे

मुझे ये वहम रहा मुद्दतों के...
Forum: Shayri-e-Dard 11th September 2010, 10:43 AM
Replies: 30
Views: 1,956
Posted By ek pal
Naresh Ji . bahut sundar eahsaas . bahut sundar...

Naresh Ji . bahut sundar eahsaas . bahut sundar peshkash rahi aapki. manbhavan rachna ke liye dheron daad kabool karen meri oar se. likhte raho.
Forum: Hindi Kavitayen 7th September 2010, 11:00 AM
Replies: 4
Views: 1,754
Posted By ek pal
so nice of you sir............................

so nice of you sir............................
Forum: Hindi Kavitayen 7th September 2010, 10:59 AM
Replies: 4
Views: 1,754
Posted By ek pal
thanks................... ...

thanks...................
------------------------------------
Forum: Hindi Kavitayen 31st August 2010, 03:14 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
सीधी राह मुझे चलने दो

सीधी राह मुझे चलने दो|
अपने ही जीवन फलने दो।

जो उत्पात, घात आए हैं,
और निम्न मुझको लाए हैं,
अपने ही उत्ताप बुरे फल,
उठे फफोलों से गलने दो।

जहाँ चिन्त्य हैं जीवन के क्षण,
कहाँ निरामयता,...
Forum: Hindi Kavitayen 31st August 2010, 03:02 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
वर्षा के मेघ कटे-

वर्षा के मेघ कटे-
रहे-रहे आसमान बहुत साफ़ हो गया है,
वर्षा के मेघ कटे !

पेड़ों की छाँव ज़रा और हरी हो गई है,
बाग़ में बग़ीचों में और तरी हो गई है-
राहों पर मेंढक अब सदा नहीं मिलते हैं
पौधों...
Forum: Shayri-e-Mashahoor Shayar 31st August 2010, 02:46 PM
Replies: 63
Views: 10,069
Posted By ek pal
ये कौन आ गई दिलरुबा महकी महकी फ़िज़ा महकी महकी...

ये कौन आ गई दिलरुबा महकी महकी
फ़िज़ा महकी महकी हवा महकी महकी


वो आँखों में काजल वो बालों में गजरा
हथेली पे उसके हिना महकी महकी


ख़ुदा जाने किस-किस की ये जान लेगी
वो क़ातिल अदा वो...
Forum: Hindi Kavitayen 31st August 2010, 02:42 PM
Replies: 11
Views: 2,046
Posted By ek pal
vikramjii maza aa gaya parh kar rom rom khil utha...

vikramjii maza aa gaya parh kar rom rom khil utha jitni tareef karun utni kam hai
Forum: Shayri-e-Mashahoor Shayar 30th August 2010, 05:03 PM
Replies: 1
Views: 1,223
Posted By ek pal
mujhako maaraa hai har ek dard-o-davaa se pahale

mujhako maaraa hai har ek dard-o-davaa se pahale
dii sazaa ishq ne har jurm-o-Khataa se pahale

aatish-e-ishq bha.Dakatii hai havaa se pahale
ho.NTh jalate hai.n muhabbat me.n duaa se...
Forum: Hindi Kavitayen 27th August 2010, 10:51 PM
Replies: 1
Views: 971
Posted By ek pal
स्मृति

उस नैनरस के स्मरण भर से ,
मेरे भाव बादल बन गए,
अश्रु झिलमिला उठे और,
स्वप्न काजल बन गए।
पाथेय पर आशाएं बिखरी,
लगा सूर्य क्षितिज से झाँकने,
देख पथ के जुगनू,नभ के तारे,
कुछ सोचकर, कुछ आंकने।...
Forum: Hindi Kavitayen 27th August 2010, 10:47 PM
Replies: 0
Views: 939
Posted By ek pal
धीरे धीरे शाम चली आई भीनी भीनी खुशबू छाई

धीरे धीरे शाम चली आई
भीनी भीनी खुशबू छाई

इन्द्रधनुषी रँग मेरे मन का
मैं उसकी परछाई, छाई
धीरे धीरे शाम चली आई॥

बूँद पडे बारिश की, सौंधी
महक मिट्टी की भाई, भाई
धीरे धीरे शाम चली आई॥
Forum: Devotional Songs 27th August 2010, 10:43 PM
Replies: 67
Views: 53,131
Posted By ek pal
ऐसा कुछ मत कीजिए, जिससे बढ़े तनाव। सबको अपना...

ऐसा कुछ मत कीजिए, जिससे बढ़े तनाव।
सबको अपना मान कर, फैलाएँ सद्भाव।।

जप-तप, पूजा-पाठ से, मिटे नहीं संताप।
अनुरागी हो मन यदि, धुल जाए सब पाप।।

सद्भावों से फैलता, भाईचारा प्यार।
कदम बढ़ाकर देख...
Forum: Hindi Kavitayen 27th August 2010, 10:39 PM
Replies: 0
Views: 862
Posted By ek pal
रात की दस्तक दरवाज़े पर है

रात की दस्तक दरवाज़े पर है
आज का दिन भी बीत गया है
कितना था उजाला फिर भी फिर से
अन्धियारा ही जीत गया है
एकान्त की चादर ओढ़ कर फिर से
मैं खुद में खोया जाता हूँ
आँखों के सामने यादों के रथ पर...
Forum: Hindi Kavitayen 27th August 2010, 10:26 PM
Replies: 0
Views: 879
Posted By ek pal
Love प्रकृति

नीली चादर ओढ़े,
तुम अंतरिक्ष की सीमा हो,
तुम अनंत, अरूपा हो,
तुम आसमान हो।
भोर के वक्त
तुम्हारी सुंदरता
निखर उठती है,
चारों ओर तुम्हारे चेहरे पर,
लालिमा छा जाती है।
पंछी तुम्हारी गोद में,
Forum: Hindi Kavitayen 22nd August 2010, 02:10 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
http://www.geeta-kavita.com/images/rim_jhim/rim_jh...

http://www.geeta-kavita.com/images/rim_jhim/rim_jhim_2.gif
Forum: Hindi Kavitayen 22nd August 2010, 02:07 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
http://www.geeta-kavita.com/images/rim_jhim/rim_jh...

http://www.geeta-kavita.com/images/rim_jhim/rim_jhim_7.gif
Forum: Hindi Kavitayen 22nd August 2010, 02:03 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
http://www.geeta-kavita.com/images/prempagi/prempa...

http://www.geeta-kavita.com/images/prempagi/prempagi.gif
Forum: Hindi Kavitayen 21st August 2010, 03:15 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
धरती स्वर्ग समान है.

जाती-पाती से बड़ा धर्म है
धर्म-ध्यान से बड़ा कर्म है
कर्मकांड से बड़ा मर्म है
मगर सभी से बड़ा यहाँ यह छोटा सा इंसान है,
और अगर वह प्यार करे तो धरती स्वर्ग समान है।

जितनी देखी, दुनिया सबकी, देखी...
Forum: Hindi Kavitayen 21st August 2010, 03:09 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
स्वतंत्रता

एक घडी की भी परवशता कोटि नरक के सम है
पल भर की भी स्वतंत्रता सौ स्वर्गों से उत्तम है।
जब तक जग में मान तुम्हारा तब तक जीवन धारो,
जब तक जीवन है शरीर में, तब तक धर्म न हारो।
जब तक धर्म, तभी तक सुख...
Forum: Hindi Kavitayen 21st August 2010, 03:03 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
जालिम सरकार मिटायेंगे

उत्तर प्रदेश के इटावा शहर के छिपती मुहल्ले में ९ अक्टूबर, १९०५ को जन्मे छैलबिहारी दीक्षित 'कंटक' हिन्दी के संभवत: पहले ऐसे कवि थे, जो कविता लिखने के कारण जेल गए। तब अंग्रेजों का दमन चक्र जोरों...
Forum: Hindi Kavitayen 21st August 2010, 02:53 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
रिम-झिम बरसा पानी

रिम-झिम बरसा पानी
लो भर जाते हैं सागर नाली
नाचते है भालू मोर
बच्चे खूब मचते शोर
आते हैं जब बदल काले काले
होती है बरसात हौले हौले
कड़की बिजली
लो बारिश गिरी
आती है जब बरसात
लाती है हर्याली साथ
Forum: Hindi Kavitayen 21st August 2010, 02:42 PM
Replies: 4
Views: 1,754
Posted By ek pal
यह कदंब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे।।

यह कदंब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे।
मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे।।
ले देतीं यदि मुझे बांसुरी तुम दो पैसे वाली।
किसी तरह नीची हो जाती यह कदंब की डाली।।
तुम्हें नहीं कुछ कहता पर मैं...
Forum: Hindi Kavitayen 21st August 2010, 02:31 PM
Replies: 18
Views: 4,696
Posted By ek pal
अम्मा ज़रा देख तो ऊपर,

अम्मा ज़रा देख तो ऊपर,
चले आ रहे हैं बादल,

गरज रहें हैं ,बरस रहें हैं
,दीख रहा है जल ही जल ,
हवा चल रही क्या पुरवाई ,
झूम रही डाली -डाली ,
ऊपर काली घटा घिरी है ,
नीचे फैली हरियाली ,
भीग रहे...
Forum: Shayri-e-Mashahoor Shayar 20th August 2010, 04:21 PM
Replies: 63
Views: 10,069
Posted By ek pal
तक़दीर का फसाना जाकर किसे सुनाएँ

तक़दीर का फसाना जाकर किसे सुनाएँ
इस दिल में जल रही हैं अरमान की चिताएँ ।।



सांसों में आज मेरे तूफ़ान उठ रहे हैं
शहनाईयों से कह दो कहीं और जाकर गायें
इस दिल में जल रही हैं अरमान की चिताएँ ।।
Forum: Shayri-e-Ishq 20th August 2010, 03:57 PM
Replies: 39
Views: 2,827
Posted By ek pal
kya baat hai naresh jii achha likha hai aapne...

kya baat hai naresh jii achha likha hai aapne maza aa gaya parh kar
Showing results 1 to 40 of 137

 
Forum Jump


Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2021, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com