View Single Post
Old
  (#9)
ananthpak
~ REBELLIOUS IN LOVE ~
ananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud ofananthpak has much to be proud of
 
ananthpak's Avatar
 
Offline
Posts: 492
Join Date: Dec 2011
Location: Ruatonga,Cook Islands
Rep Power: 21
4th September 2014, 07:34 PM

Quote:
Originally Posted by NakulG View Post
तेरी तसवीर से चिलमन को हटाया जाये ,
चलो कुछ देर चराग़ों को "जलाया" जाये !!
बहुत सजाये हैं, बहारों में गुलशन,
चलो इस बार, सेहरा को सजाया जाये !!
मुझे सीरत मेरी दिखाते हैं ये लोग,
चलो आईना, अब आईनों को दिखाया जाये !!
पथ्थरों को बहुत पिला के देखा है ,
चलो पानी, परिन्दों को पिलाया जाये !!
ज़ख्मों को लिए मयकदे में आये हैं ,
"चलो मरहम तबीबों को लगाया जाये"!!
खता की जड़ में आख़िर रखा क्या है,
चलो, रूठे हबीबों को मनाया जाये !!
खो कर पाना, पा के खोना ही है हयात,
चलो, के घर रकीबों का बसाया जाये !!
बहुत सताया है, इस लंबे सफर ने ,
चलो, अब मंज़िलों को थकाया जाये !!
बहुत तड़पी हैं ये आँखें रिस रिस कर,
चलो पानी को शोलों से मिलाया जाये !!
चलो कुछ देर चराग़ों को जलाया जाये !!
Waaaaaahhhhhh!!!! Kya baat hai Nakul ji...bohat achhe...padh kar maza aa gaya...bohat saari subhkaamnayein





Mohabbat ke ye silsile na the
Jab tak tum hum mile na the

*pari*
  Send a message via Yahoo to ananthpak  
Reply With Quote