Shayri.com  

Go Back   Shayri.com > Shayri > Shayri-e-Dard

Reply
 
Thread Tools Rate Thread Display Modes
दिल की बातें
Old
  (#1)
Chaand
Registered User
Chaand has much to be proud ofChaand has much to be proud ofChaand has much to be proud ofChaand has much to be proud ofChaand has much to be proud ofChaand has much to be proud ofChaand has much to be proud ofChaand has much to be proud of
 
Chaand's Avatar
 
Offline
Posts: 2,628
Join Date: Jul 2002
Location: New Delhi
Rep Power: 32
दिल की बातें - 12th January 2019, 10:03 AM

उसने पूछा ... मेरे खातिर क्या कर सकते हो
इस जमीन ओ आसमान की
किस किस हद तक गुजर सकते हो,
मेने कहा...अदना से इंसान हूँ
न ठीक से जीना आता है और
न मरने का जिगर रखता हूँ,
तुम्हारी सूरत का कायल हूँ
क्या मोहोब्बत करने की गुस्ताखी कर सकता हूँ,
एक काम करो तुम हाँ करदो
इस खुशी से मेरा दिल भर दो

वो बोली...हटो बहुत डिमांडिंग हो तुम तो
अपना पर्स निकालो ओर पहले
मेरे इन ब्रांडेड चाँद-सितारों का बिल तो भर दो
फिर सोचेंगे तुम्हारे दिल का क्या करना है,
ओर में गहरी सोच में पड़ गया
पहले घर का राशन जरूरी था? या के इस महँगी सी मोहोब्बत का बिल को भरना था?
बचपन का पढ़ा हुआ आखिर काम आ ही गया
मेरी चादर जो मेरी उम्मीदों से छोटी थी शायद
बाहर ठंड बहुत थी और में उसमे ही समा गया।


Sachh bolne ka hausla to, hum bhi rakhte haiN lekin
Anjaam sochkar, aksar khaamosh hi reh jaate haiN.

- Chaand

Last edited by Chaand; 12th January 2019 at 10:07 AM..
   
Reply With Quote
Reply

Thread Tools
Display Modes Rate This Thread
Rate This Thread:

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off

Forum Jump



Powered by vBulletin® Version 3.8.5
Copyright ©2000 - 2021, Jelsoft Enterprises Ltd.
vBulletin Skin developed by: vBStyles.com